logo
Home Anthology Anthology Fiction Pakistani Stri : Yatana Aur Sangharsh
product-img product-img
Pakistani Stri : Yatana Aur Sangharsh
Enjoying reading this book?

Pakistani Stri : Yatana Aur Sangharsh

by Zahida Hina
4.8
4.8 out of 5

publisher
Creators
Author Zahida Hina
Publisher Vani Prakashan
Synopsis पाकिस्तानी स्त्री की यातना और संघर्ष पर केंद्रित इस पुस्तक के लेखों में उस औरत की समस्याएँ और मुद्दे विमर्श का मुद्दा बने हैं जो कभी आसमानी हवाओं से बहकाई गई तो कभी जमीनी संहिताओं से दहलाई गई। जमाने की बदलती हुई हवाओं ने उस औरत के जेहन पर जमी हुई सदियों की गर्द को साफ करना शुरू कर दिया है: आज उसके जेहन में एक सौ एक खयाल और एक हजार एक सवाल हैं। दरअसल, इस दूर तक फैली जमीन पर सारी रौनक उसी के दम से है, वरना आदम का इरादा तो यह था कि खुदा के बंदे खुदा के हर हुक्म पर सर झुकाते हुए बागे-अदन यानी जन्नत के बाग में जिन्दगी कभी न खत्म होनेवाले समय तक गुजार दी जाए। यह हव्वा थी जिसके अंदर जिज्ञासा थी, जिसने साँप के रूप में आनेवाले इब्लीस (शैतान) से संवाद किया। अची पहचान करानेवाले पेड़ का फल खुद खाया और आदम को भी खिलाया। उसके विकास की कहानी मानव सभ्यता के विकास की कहानी है। लेकिन धरती पर आ कर आदम और हौवा का हश्र अलग-अलग क्यों हो गया? पाकिस्तान की विख्यात कथाकार और राजनीतिक टिप्पणीकार ज़ाहिद हिना के ये लेख इसी ट्रेजिक सचाई की तहकीकात करते हैं। बेशक संदर्भ पाकिस्तान की आम स्त्रियों की यातनाओं और संघर्षों का है, लेकिन यह लोमहर्षक कहानी भारत की भी है, बांगलादेश की भी और एक तरह से सारी दुनिया की है।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹425
PaperBack ₹195
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 228
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789350001745
  • Category: Anthology Fiction
  • Related Category: Anthology Non-Fiction
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Shor Ke Viruddh Srajan (Mamata Kaliya Ka Rachna Sansar) by
Voter Mata Kee Jai ! by Pratistha Singh
Arjun And His Village In India by Carol Barker
Nagarjun ka Upanyas Sahitya Samsamyik Sandharbh by Surendra Kumar Yadav
Sahitya Ka Aatm-Satya by Nirmal Verma
Udan by Rajesh Reddy
Books from this publisher
Related Books
Na Juna Raha Na Pari Rahi Zahida Hina
Pakistani Stri : Yatana Aur Sangharsh Zahida Hina
Pakistan Diary Zahida Hina
Pakistan Diary Zahida Hina
Related Books
Bookshelves
Stay Connected