logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Paalatu Bohemian
product-img
Paalatu Bohemian
Enjoying reading this book?

Paalatu Bohemian

by Prabhat Ranjan
4.5
4.5 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis हिंदी में ऐसे लेखक अधिक नहीं हैं जिनकी रचनाएं आम पाठकों और आलोचकों के बीच सामान रूप से लोकप्रिय हो. ऐसे लेखक और भी कम हैं जिनके पैर किसी विचारधारा की बेड़ी से जकड़े ना हो. मनोहर श्याम जोशी के लेखन,पत्रकारिता को अपने शोध-कार्य का विषय बनाने की ‘रिसर्च स्कोलर्स’ में होड़ लगी थी. प्रभात रंजन ने न सिर्फ जोशी जी के लेखन पर अपना शोध-कार्य बखूबी किया बल्कि उनके साथ बिताए गए समय को इस संस्मरण की शक्ल देकर एक बड़ी ज़िम्मेदारी पूरी की है. “प्रभात ने आत्मीय वृत्तांत लिखा है.” –भगवती जोशी (मनोहर श्याम जोशी की सहधर्मिणी) - हिंदी फ़िल्मों और डेली सोप ओपेरा के लीजेंड्री राइटर मनोहर श्याम जोशी के जीवन से जुड़े अनेक वृत्तांत इस पुस्तक में हैं जो न सिर्फ दिलचस्प हैं, बल्कि प्रेरक और ज्ञानवर्द्धक भी हैं. - हिंदी कथा-साहित्य/ पत्रकारिता/ फिल्म/ टेलिविज़न में रूचि रखने वालों के लिए अनिवार्य पठनीय सामग्री. - संस्मरण विधा में एक उपलब्धि जैसी किताब.


Enjoying reading this book?
PaperBack ₹150
HardBack ₹395
Print Books
Digital Books
About the author बिहार के मधेपुरा जिला में एक मध्यमवर्गीय किसान के घर जन्मे प्रभात रंजन ने धूल-धुसरित पृष्ठभूमि से अपनी जीवन-यात्रा शुरू की। पिताजी की महत्वाकांक्षाओं ने इन्हें आंशिक साक्षरता दर व दयनीय जीवन-शैली वाली बस्ती से निकाल कर बोर्डिंग पहुँचाया। इन्होंने विज्ञान से स्नातक की डिग्री तो हासिल की, मगर साहित्य-प्रेम और लेखन-प्रवृत्ति ने इन्हें कभी साहित्य से अलग न होने दिया। 1993 में प्रकाशित इनके पहले उपन्यास ‘दोस्ती और प्यार' ने इन्हें व्यावसायिक लेखन के कई अवसर प्रदान किये। इनके कई टेलीफिल्म्स व धारावाहिक विभिन्न चैनलों से प्रसारित हो चुके हैं। प्रभात रंजन, बतौर फिल्म-पत्रकार नवभारत टाइम्स, अमर उजाला सहित कई समाचार पत्र समूह के लिये लिखते रहे, मगर पुस्तक-लेखन का मोह त्याग न सके। शायद इसीलिये, बीच-बीच में समय निकाल कर इन्होंने ‘एक नई प्रेमकहानी', ‘सितारों के पार : गुलशन कुमार', ‘कोशी पीड़ित की डायरी' पुस्तकें लिखीं, जो विभिन्न प्रकाशनों से प्रकाशित हुर्इं।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 128
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789388753425
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Nyayakshetre : Anyayakshetre by Arvind Jain
Pratinidhi Kahaniyan : Yashpal by Yashpal
Madhyakaleen Bharat Ka Aarthik Ithihas : Ek Servekshan by Irfan Habib
Hindi Riti Sahitya by Bhagirath Mishra
Antariksha Yatra by Gunakar Muley
Sapne Mein Piya Pani by Samartha Vashishtha
Books from this publisher
Related Books
Jankipul Prabhat Ranjan
Bhartiya Murtikala Ka Parichay Prabhat Ranjan
Paalatu Bohemian Prabhat Ranjan
Kothagoi Prabhat Ranjan
Red Alert Prabhat Ranjan
Manohar Shyam Joshi Prabhat Ranjan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected