logo
Home Literature Classics & Literary Nachyo Bahut Gopal
product-img product-img
Nachyo Bahut Gopal
Enjoying reading this book?

Nachyo Bahut Gopal

by Amritlal Nagar
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajpal
Synopsis

Enjoying reading this book?
HardBack ₹375
Print Books
Digital Books
About the author अमृतलाल नागर (17 अगस्त, 1916 - 23 फरवरी, 1990) हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार थे। आपको भारत सरकार द्वारा १९८१ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। अमृत लाल नागर का जन्म 17 अगस्त 1916 ई0 को आगरा (उत्तर प्रदेश) में एक गुजराती ब्राह्मण परिवार में हुआ। आपके पिता का नाम राजाराम नागर था। आपके पितामह पं. शिवराम नागर 1895 से लखनऊ आकर बस गए थे। आपकी पढ़ाई हाईस्कूल तक ही हुई। फिर स्वाध्याय द्वारा साहित्य, इतिहास, पुराण, पुरातत्व व समाजशास्त्र का अध्ययन। बाद में हिन्दी, गुजराती, मराठी, बंगला, अंग्रेजी पर अधिकार। पहले नौकरी, फिर स्वतंत्र लेखन, फिल्म लेखन का खासा काम किया। 'चकल्लस' का संपादन भी किया। आकाशवाणी, लखनऊ में ड्रामा प्रोड्यूसर भी रहे। 1932 में निरंतर लेखन किया। शुरूआत में मेघराज इंद्र के नाम से कविताएं लिखीं। 'तस्लीम लखनवी' नाम से व्यंग्यपूर्ण स्केच व निबंध लिखे तो कहानियों के लिए अमृतलाल नागर मूल नाम रखा। आपकी भाषा सहज, सरल दृश्य के अनुकूल है। मुहावरों, लोकोक्तियों, विदेशी तथा देशज शब्दों का प्रयोग आवश्यकतानुसार किया गया है। भावात्मक, वर्णनात्मक, शब्द चित्रात्मक शैली का प्रयोग इनकी रचनाओं में हुआ है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajpal
  • Pages: 328
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788170280057
  • Category: Classics & Literary
  • Related Category: Classics
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Havayein Kya Kya Hain by Suresh Salil
Rice, Biryani & Pulao by Sanjeev Kapoor
Parikrama by Kamleshwar
Kuli Barister by Rajendra Mohan Bhatnagar
Marathi Ki Shreshth Kahaniyan by Vijay Bapat
Non-Stick Cooking by Sanjeev Kapoor
Books from this publisher
Related Books
SHATRANJ KE MOHRE AMRITLAL NAGAR
Suhag Ke Nupur Amritlal Nagar
Chakratirth Amritlal Nagar
Ekda Naimisharanye Amritlal Nagar
Sudhiyan Kuchh Apni, Kuchh Apanon Ki Amritlal Nagar
Sampurna Balrachanayen Amritlal Nagar
Related Books
Bookshelves
Stay Connected