logo
Home Literature Poetry Muhajirnama
product-img
Muhajirnama
Enjoying reading this book?

Muhajirnama

by Munawwar Rana
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Author Munawwar Rana
Publisher
Synopsis मुहाजिरनामा, मुनव्वर राना द्वारा 1947 के भारत पाकिस्तान बटवारे के मुहाजिरों पर लिखी गयी एक बहुत ही शसक्त ग़ज़ल हैं। यह एक बहुत लम्बी ग़ज़ल हैं जिसमे कि 504 शेर हैं। अपनी जमीन, अपना घर, अपने लोगो को छोड़ने का गम क्या होता हैं इसको इस ग़ज़ल में बड़ी शिद्द्त से व्यक्त किया गया हैं।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹100
HardBack ₹295
Print Books
Digital Books
About the author मुनव्वर राना का जन्म 26 नवम्बर, 1952 को रायबरेली, उत्तर प्रदेश में हुआ था। सैयद मुनव्वर अली राना यूँ तो बी. कॉम. तक ही पढ़ पाये किन्तु ज़िन्दगी के हालात ने उन्हें ज्यादा पढ़ाया भी उन्होंने खूब पढ़ा भी। माँ, ग़ज़ल गाँव, पीपल छाँव, मोर पाँव, सब उसके लिए, बदन सराय, घर अकेला हो गया, मुहाजिरनामा, सुखन सराय, शहदाबा, सफ़ेद जंगली कबूतर, फुन्नक ताल, बग़ैर नक़्शे का मकान, ढलान से उतरते हुए और मुनव्वर राना की सौ ग़ज़लें हिन्दी व उर्दू में प्रकाशित हुईं। कई किताबों का बांग्ला व अन्य भाषाओं में अनुवाद भी हुआ।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher:
  • Pages: 134
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789352291519
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Allahabad Kendriya Vishwavidyalaya Pravesh Pariksha B.Com by Arihant Experts
PGT Guide Physics Recruitment Examination by Arihant Experts
AMU Aligarh Muslim University B.A. Bachelor Of Arts by Arihant Experts
Touch and Feel - Colours and Shapes by Dreamland Publications
A History of Indian Philosophy {4Th Vol.} by Surendranath Dasgupta
Reproduction (How My Body Works) by Dreamland Publications
Books from this publisher
Related Books
Rukhsat Karo Mujhe Munawwar Rana
Ghar Akeala Ho Gaya Munawwar Rana
Badan Sarai Munawwar Rana
Rukhsat Karo Mujhe Munawwar Rana
Meer Aa Ke Laut Gaya-1 Munawwar Rana
Meer Aa Ke Laut Gaya-1 Munawwar Rana
Related Books
Bookshelves
Stay Connected