logo
Home Literature Novel Mrigtrishna
product-img
Mrigtrishna
Enjoying reading this book?

Mrigtrishna

by Chandramaouli Rai
4.2
4.2 out of 5
Creators
Author Chandramaouli Rai
Publisher Rigi Publication
Synopsis प्यार, पैसा, पावर की चाहत में कभी न खत्म होने वाली दौड़ में शामिल लोगों के लिए लेखक ने 'मृगतृष्णा' की रचना की है। लेखक उदारवृत्ति, अध्ययवसायी, चिंतनरत व सरल ह्दय व्यक्तिव के धनी हैं। आप भारत सरकार के विशिष्ट पद पर रहकर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। सेवानिवृत्त के उपरांत आपका लक्ष्य लोकमंगल हेतु अपने कृतित्व के माध्यम से सही दिशा व सकारात्मक सोच की प्रेरणा प्रदान करना है। जीवन की सार्थकता लोककल्याण से पूर्ण होती है। प्रस्तुत पुस्तक में एक सफल जीवन के लिए जिन मानवीय व नैतिक मूल्यों का होना आवश्यक है, उनका समुचित समावेश लेखक श्री चंद्रमौलि राय ने किया है। पाठकों से विनम्र निवेदन है कि वे इस पुस्तक में संकलित रचनाओं के द्वारा उनमें निहित शीर्ष आदर्श व उच्च संस्कारों को ग्रहण करें व व्यवहार में लाएं, यही लेखक का उद्देश्य है।

Enjoying reading this book?
Paperback ₹120
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rigi Publication
  • Pages: 52
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389540796
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Krishi Saar by Manish Kumar Sharma
Meri Gullak by Manmohan Krishan Goyal
Ananya by Dr. Anju Rajiv Ranjan
Pyasi Rooh Ka Intqam by H.S. BAWA
Dharmik Lehra by Malkinder Singh
KANTO SE DOSTI KAR LIYA by KAUSAR WASEEM
Books from this publisher
Related Books
Meri Gullak Manmohan Krishan Goyal
Ek Ghoont Jindagi Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
MANGALSUTRA KA VARDAAN Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
Gyanu Ek Ajib Dastan GYANENDRA PRATAP SINGH
EK GUMNAM SHAHEED KI DIARY Prawin Kumar
Chand Ki Chahat Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
Related Books
Bookshelves
Stay Connected