logo
Home Reference Women MorchaDarMorcha
product-img product-img
MorchaDarMorcha
Enjoying reading this book?

MorchaDarMorcha

by Kiran Bedi
4.8
4.8 out of 5

publisher
Creators
Author Kiran Bedi
Publisher Vani Prakashan
Synopsis मोर्चा-दर-मोर्चा में मिलिए एक बुततराश से। अगर किरण एक बुततराश न होतीं तो 22 अक्टूबर 1997 को जोज़फ बोएज़ संस्थान उन्हें सामाजिक मूर्तिकार घोषित करते हुए 14,000 डालर के पुरस्कार से सम्मानित न करता। स्वयं एक प्रसिद्ध कलाकार जोज़फ बोएज़ मानते थे कि एक सामाजिक बुत तभी तराशा जा सकता है जब हर व्यक्ति अपनी क्षमता का पालन पोषण करते हुए एक कलात्मक तरीके से उसे सँजोए रखता है। तिहाड़ कारा में किरण ने यही तो किया, एक ग़ैर-पारम्परिक ढ़ग से सृजन पर अपनी पैनी निगाहें टिका कर जाने-अनजाने ही सही, जोज़फ बोएज़ की इस मान्यता को एक सार्थक रूप दे दिया। सृजनात्मकता और मान-मर्यादा को किरण ने ऐसे इन्सानों के भीतर संचारित कर दिया जो निराशा, उदासी और विषाद की प्रतिमूर्तियाँ बन चुके थे। बोएज़ की सोच से बहुत मेल खाता है किरण का मानवता के प्रति प्रेम।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹150
PaperBack ₹65
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 120
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789352292240
  • Category: Women
  • Related Category: Family & Relationship
Share this book
Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Sangam Ki Reti Par Chalees Din by Dhananjai Chopra
Sune Chokhte by Sarveshwar Dayal Saxena
Ek Koi Tha Kahi NahinSa by Meera Kant
Ramdarash Mishra:Ek Antaryatra by Prakash Manu
ApneApne Pinjare1 by Mohandas Naimisharay
Dayashankar ki Diary by Nadira Zaheer Babbar
Books from this publisher
Related Books
Bhrashtachar Bharat Chhodho Kiran Bedi
Jeet Lo Har Shikhar Kiran Bedi
Jaag Uthi Nari Shakti Kiran Bedi
Jeet Lo Har Shikhar Kiran Bedi
Jaag Uthi Nari Shakti Kiran Bedi
Yah Sambhav Hai Kiran Bedi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected