logo
Home Literature Novel Mohan Das
product-img product-img
Mohan Das
Enjoying reading this book?

Mohan Das

by Uday Prakash/Award
4.2
4.2 out of 5

publisher
Creators
Author Uday Prakash/Award
Publisher Vani Prakashan
Synopsis डर का रंग कैसा होता है. सोचने पर डर के लम्हे तो याद आते हैं लेकिन डर का रंग आंख मीचने के बाद भी नहीं दिखता. डर का सामना कर चुके मन को कभी फुर्सत और हिम्मत ही नहीं मिली कि वो डर का रंग देख सके. लेकिन `मोहनदास` हमें वो रंग दिखाता है जो यूं ही कभी भी हमें दिख सकते हैं अपने आस-पास. जरूरत होगी तो सिर्फ एक मानवीय नजर की. मोहनदास एक छोटी मगर गहरी कहानी है, जिसे सफेद पन्नों पर उदय प्रकाश ने गढ़ने का काम किया है.`मोहनदास` की कहानी इसके मुख्य किरदार मोहनदास, उसकी पत्नी कस्तूरी, टीबी के मरीज पिता, आंखों की रोशनी खो चुकी बूढ़ी मां, बच्चे और उसके जीवन के सच के इर्द-गिर्द घूमती है. सच जो कि सिर्फ उसके लिए या खुदा की नजरों में सच होता है. चूंकि समाज की नजरों में सच वो होता है जो दिख और बिक रहा होता है. मोहनदास दिख नहीं पा रहा था और न ही बिक पा रहा था. वो बस अपनी उधड़ी जिंदगी जी रहा था कुछ सपनों और ज्यादा तकलीफों के बीच।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹250
PaperBack ₹125
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 96
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788181435651
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Lingbhav Ka Manavvaigyanik Anveshan by Leela Dube
Chand Pagal Hai by Rahat Indori
Saat Samandar Terah Nadiyan by Manorama Vishwal Mahapatra
Lal Teen Ki Chhat by Nirmal Verma
Laddakh Mein Koi Raincho Nahin Rahta by Ramji Tiwari
Daur by Mamta Kalia
Books from this publisher
Related Books
Baddibai Ki Jugad Parul Batra Duggal
Zindagi Live Priyadarshan
Sanatan Sharankumar Limbale
Neelanchal Chandra Sujata
Neelchandra Rajendra Mohan Bhatnagar
Anand Path Rajendra Mohan Bhatnagar
Related Books
Bookshelves
Stay Connected