logo
Home Literature Novel Meri Gullak
product-img
Meri Gullak
Enjoying reading this book?

Meri Gullak

by Manmohan Krishan Goyal
4
4 out of 5
Creators
Author Manmohan Krishan Goyal
Publisher Rigi Publication
Synopsis "मेरी गुल्लक' में मैंने बहुत कुछ संजोया है। जो निश्चय ही आपके मन को भायेगा। मेरी भावनाओं के अतिरेक को कागज पर उतारकर ही मुझे विश्राम मिलता है। भावों को शब्द देना मुझे बहुत अच्छा लगता है। मेरे दर्द - तकलीफ को अभिव्यक्त करके भी मैं अपने मन को हल्का कर लेता हूँ। जोश - नया उत्साह पैदा करने के लिए भी लिखा है। मैंने सरल सीधे सपाट शब्दों का प्रयोग किया है जो सबके लिए ग्राह्य है। मेरी अधिकतर रचनाएँ आस - पास के वातावरण को देखकर एवं पारिवारिक माहौल से उत्पन्न हुई है। कुछ रचनाएँ समाज में कोई सन्देश देने की कोशिश है। प्यार - मुहब्बत, तन्हाई पर भी लिखा है। नारी पर लिखी रचनाएँ नारीय-भावनाओं को शब्द देने का मेरा प्रयास है। सामाजिक विद्रूप को व्यक्त करने की कोशिश की गयी है। प्रकृति मुझे प्रभावित करती है उस पर भला कैसे ना लिखता । कभी कभी मेरी लेखनी मेरे कल्पना लोक को भी कागज पर उतारने लगती है।"

Enjoying reading this book?
Paperback ₹220
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rigi Publication
  • Pages: 160
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389540819
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Jati Na Pucho Meri by Charu Nagpal
Biological Analysis Of Drugs by Dr . krunal mehariya
BASIC GRAMMAR PRACTICE HANDBOOK ON TENSE by Dr M Vijaya
Managerial Effectiveness: An Insight by Dr.Anindita S.Chatterjee
GANESH SINGH BEDI - KIRAT BHARM BODH GRANTH by Veerpal Kaur
Nisargada Odalu Thaayiya Madilu by Gavisiddappa Adoor
Books from this publisher
Related Books
Mrigtrishna Chandramaouli Rai
Ek Ghoont Jindagi Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
MANGALSUTRA KA VARDAAN Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
Gyanu Ek Ajib Dastan GYANENDRA PRATAP SINGH
EK GUMNAM SHAHEED KI DIARY Prawin Kumar
Chand Ki Chahat Prabhu Dayal Mandhaiya Vikal
Related Books
Bookshelves
Stay Connected