logo
Home Literature Short Stories MANSAROVAR-01 IDGAH TATHA ANYA KAHANIYAN
product-img
MANSAROVAR-01 IDGAH TATHA ANYA KAHANIYAN
Enjoying reading this book?

MANSAROVAR-01 IDGAH TATHA ANYA KAHANIYAN

by PREMCHAND
4.9
4.9 out of 5
Creators
Author PREMCHAND
Publisher STAR PUBLICATIONS (PVT.) LTD., NEW DELHI
Synopsis

Enjoying reading this book?
Binding: Hardback
About the author प्रेमचंद (31 जुलाई 1880 – 8 अक्टूबर 1936) हिन्दी और उर्दू के सर्वाधिक लोकप्रिय उपन्यासकार, कहानीकार एवं विचारक थे। उन्होंने सेवासदन, प्रेमाश्रम, रंगभूमि, निर्मला, गबन, कर्मभूमि, गोदान आदि लगभग डेढ़ दर्जन उपन्यास तथा कफन, पूस की रात, पंच परमेश्वर, बड़े घर की बेटी, बूढ़ी काकी, दो बैलों की कथा आदि तीन सौ से अधिक कहानियाँ लिखीं। उनमें से अधिकांश हिंदी तथा उर्दू दोनों भाषाओं में प्रकाशित हुईं। उन्होंने अपने दौर की सभी प्रमुख उर्दू और हिंदी पत्रिकाओं जमाना, सरस्वती, माधुरी, मर्यादा, चाँद, सुधा आदि में लिखा। उन्होंने हिंदी समाचार पत्र जागरण तथा साहित्यिक पत्रिका हंस का संपादन और प्रकाशन भी किया। इसके लिए उन्होंने सरस्वती प्रेस खरीदा जो बाद में घाटे में रहा और बंद करना पड़ा। प्रेमचंद फिल्मों की पटकथा लिखने मुंबई आए और लगभग तीन वर्ष तक रहे। जीवन के अंतिम दिनों तक वे साहित्य सृजन में लगे रहे। महाजनी सभ्यता उनका अंतिम निबंध, साहित्य का उद्देश्य अंतिम व्याख्यान, कफन अंतिम कहानी, गोदान अंतिम पूर्ण उपन्यास तथा मंगलसूत्र अंतिम अपूर्ण उपन्यास माना जाता है। 1906 से 1936 के बीच लिखा गया प्रेमचंद का साहित्य इन तीस वर्षों का सामाजिक सांस्कृतिक दस्तावेज है। इसमें उस दौर के समाजसुधार आंदोलनों, स्वाधीनता संग्राम तथा प्रगतिवादी आंदोलनों के सामाजिक प्रभावों का स्पष्ट चित्रण है। उनमें दहेज, अनमेल विवाह, पराधीनता, लगान, छूआछूत, जाति भेद, विधवा विवाह, आधुनिकता, स्त्री-पुरुष समानता, आदि उस दौर की सभी प्रमुख समस्याओं का चित्रण मिलता है। आदर्शोन्मुख यथार्थवाद उनके साहित्य की मुख्य विशेषता है। हिंदी कहानी तथा उपन्यास के क्षेत्र में 1918 से 1936 तक के कालखंड को 'प्रेमचंद युग' कहा जाता है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: STAR PUBLICATIONS (PVT.) LTD., NEW DELHI
  • Pages: 223
  • Binding: Hardback
  • ISBN: 9788176501804
  • Category: Short Stories
  • Related Category: Novella
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
SAAT PHERE (LARGE PRINT) by GURCHARAN SINGH BHATIA
THE BENGALI WOMAN AND OTHER STORIES by Saadat hasan manto
WORD TO WORD BILINGUAL DICTIONARY ENG-GERMAN GERMAN-ENG by HELLA BELL
POETRY OF FAIZ AHMAD FAIZ by KHWAJA TARIQ MAHMOOD
HINDUSTANI KITCHEN NON VEGETARIAN & VEGETARIAN by MOHAN SAIGAL & KAJAL VARMA
NIRMALA by PREMCHAND
Books from this publisher
Related Books
Karmbhoomi Premchand
Sampoorna Kahaniyan : Premchand (Vols. 1-2) Premchand
Sevasadan Premchand
Pratigya Premchand
Godaan Premchand
Premchand Ke Vichar (3 Volume Set) Premchand
Related Books
Bookshelves
Stay Connected