logo
Home Literature Novel Maila Anchal
product-img
Maila Anchal
Enjoying reading this book?

Maila Anchal

by Phanishwarnath Renu
4.7
4.7 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹399
HardBack ₹895
Print Books
Digital Books
About the author फणीश्‍वर नाथ रेणु {4 मार्च 1921 - 11 अप्रैल, 1977}, ने 1942 के भारत-छोड़ो आंन्दोलन के सक्रिय स्वन्त्रता भाग लिया। 1950 में नेपाली दमनकारी रणसत्ता के विरूद्ध सशस्त्र क्रांति के सूत्रधार रहे। 1954 में 'मैला आँचल' उपन्यास प्रकाशित हुआ तत्पश्चात् हिन्दी के कथाकार के रूप में अभूतपूर्व प्रतिष्ठा मिली। इनकी लेखनशैली वर्णणात्मक थी जिसमें पात्र के प्रत्येक मनोवैज्ञानिक सोच का विवरण लुभावने तरीके से किया होता था। इनकी लगभग हर कहानी में पात्रों की सोच घटनाओं से प्रधानहोती थी। एक आदिम रात्रि की महक इसका एक सुंदर उदाहरण है। इनकी कहानी मारे गये गुलफाम (तीसरी कसम) पर इसी नाम "तीसरी कसम"से राजकपूरऔर वहीदा रहमान की मुख्य भूमिका में प्रसिद्ध फिल्म बनी जिसे बासु भट्टाचार्य ने निर्देशित किया और सुप्रसिद्ध गीतकार शैलेन्द्र इसके निर्माता थे। यह फिल्म हिंदी सिनेमा में मील का पत्थर कही जाती है।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 353
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788126704804
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Raaste by Govind Purushottam Deshpandey
Phalon Ki Kheti by Mukesh Kumar
Rakhmabai : Stree Adhikar Aur Kanoon by Sudhir Chandra
Kahna Hai Kuchh by Renu 'Anshul'
Pratinidhi Kahaniyan : Jaishankar Prasad by Jaishankar Prasad
Dalit Veerangnayen Evam Mukti Ki Chah by Badri Narayan
Books from this publisher
Related Books
Paltu Babu Road Phanishwarnath Renu
Juloos Phanishwarnath Renu
Juloos Phanishwarnath Renu
Aadim Ratri Ki Mehak Phanishwarnath Renu
Pranon Mein Ghule Huye Rang Phanishwarnath Renu
JULOOS Phanishwarnath Renu
Related Books
Bookshelves
Stay Connected