logo
Home Literature Poetry Kirishnadharma Main
product-img
Kirishnadharma Main
Enjoying reading this book?

Kirishnadharma Main

by Prabha Khetan
4.8
4.8 out of 5

publisher
Creators
Author Prabha Khetan
Publisher Vani Prakashan
Synopsis मेरी इस पूरी कविता में कृष्ण मौजूद हैं उनकी मौजूदगी उस कौंध की मौजूदगी है जो कभी दिखती है कभी नहीं दिखती, मगर लापता कभी नहीं होती। हाँ, यह भी सच है कि मेरे पास ऐसा कोई विज़न नहीं, बस कहीं कछ आत्मा की गहराई में ज़रूर घटा कि अपने वैयक्तिक अनुभवों का अतिक्रमण करते हुए मैंने खुद यह राह चुनी; उस आग को कुरेदा, जो इच्छा, आकांक्षाओं और महत्त्वाकांक्षाओं की राख के नीचे एक मानवीय आग बनकर सुलग रही थी। पूरी रचना के दौरान मैं आज की चुनौतियों के बीच अपने को कृष्ण की साझीदार पाती रही हूँ हास-उल्लास के क्षणों से लेकर महाभारत के महासंहार तक के प्रकरणों के बीच, केलि-कुंजों से लेकर प्रभास-तीर्थ तक की रचना-यात्रा के बीच। शायद साझेदारी के इस एहसास ने ही मुझे स्थूल कथा-सूत्रों से बचाकर चेतना के स्तर पर कृष्ण से जोड़ा है, कृष्णधर्मा बनाया है।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹99
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 48
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789389563856
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Cheelghar by Ramashankar Nishesh
Meer Aa Ke Laut Gaya-1 by Munawwar Rana
Laalitya Tattav by Acharya Hazariprasad Dwivedi
KathaPatkatha by Mannu Bhandari
Jungal Ke Khilaf by Jiyalal Arya
Hamala by Harry Mulisch
Books from this publisher
Related Books
Satra: Shabdon Ka Masiha Prabha Khetan
Apne-Apne Chehare Prabha Khetan
Sankalon Mein Qaid Kshitij Prabha Khetan
Aparichit Ujale Prabha Khetan
Husnabano Aur Anay Kavitayen Prabha Khetan
Talabandi Prabha Khetan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected