logo
Home Literature Drama Katha Shakuntala Ki
product-img
Katha Shakuntala Ki
Enjoying reading this book?

Katha Shakuntala Ki

by Radhavallabh Tripathi
4.5
4.5 out of 5

publisher
Creators
Author Radhavallabh Tripathi
Publisher Radhakrishna Prakashan
Synopsis शकुंतला-दुष्षंत की कथा की इस नाट्य-प्रस्तुति को जो चीज विशिष्ट बनाती है, वह है इसका काल-बोध और तत्कालीन परिवेश का तथ्यपरक निरूपण। ‘महाभारत’ में किंचित् परिष्कृत रूप में सबसे पहले आनेवाली यह कथा वास्तव में वैदिक काल की है। इसके पात्र वेदों के समय से संबंध रखते हैं। दुष्यंत के पुत्र भरत का जिक्र भी वेदों में मिलता है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए ‘महाभारत’ में यह कथा जिस रूप में आई, उसके बजाय यह नाटक इस कथा के उस रूप को आधार बनाता है जो वैदिक काल में रहा होगा। महाभारत में, और उसके बाद हम जिस भी रूप में इस कथा को देखते हैं, उसकी जड़ें सामंती मूल्य-संरचना में हैं। वैदिक संस्करण निश्चय ही कुछ भिन्न रहा होगा और उसका परिप्रेक्ष्य आदिम मूल्यबोध से रहा होगा। इस नाटक में कथा के उसी रूप को पकड़ने का प्रयास किया गया है। इसीलिए यहाँ ‘दुष्यंत’ को ‘दुष्षंत’ कहा गया है जो महाभारत तथा वैदिक साहित्य में आता है। यह प्रचलित कथा मूलत: मातृसत्तात्मक समाज से ताल्लुक रखती है जहाँ लड़कियों को अपना जीवन साथी चुनने की पूरी छूट है, जैसा कि शकुंतला भी करती है। नाटक में भूख और अकाल की भी चर्चा है जिन्हें वेदों के ही कुछ प्रसंगों के आधार पर पुन:सृजित किया गया है। भाषा, संवाद-रचना और प्रसंगानुकूल दृश्य-रचना के चलते यह नाटक शकुंतला की जानी-पहचानी कथा को हमारे सामने नए और भावप्रवण रूप में प्रस्तुत करता है; जो मंच के लिए जितना अनुकूल है, साधारण पाठ के लिए भी उतना ही रुचिकर है।

Enjoying reading this book?
Hardback ₹395
PaperBack ₹150
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Radhakrishna Prakashan
  • Pages: 152
  • Binding: Hardback
  • ISBN: 9788183619394
  • Category: Drama
  • Related Category: Drama & Theatre
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Riturain by Shirish Kumar Mourya
Aadivasi Kaun by Ramanika Gupta
Aashcharya Lok Mein Alis by Lui Cairol
Chalte Rahe Raat Bhar by Rakesh Mishra
Mahabhoj by Mannu Bhandari
Daulati by Mahashweta Devi
Books from this publisher
Related Books
Katha Shakuntala Ki Radhavallabh Tripathi
Kadambari Radhavallabh Tripathi
VIKRAMADITYA KATHA RADHAVALLABH TRIPATHI
Naya Sahitya : Naya Sahityashashtra Radhavallabh Tripathi
Kadambari Radhavallabh Tripathi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected