logo
Home Literature Literature Kahat Kabeer
product-img
Kahat Kabeer
Enjoying reading this book?

Kahat Kabeer

by Harishankar Parsai
4.4
4.4 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author हरिशंकर परसाई (22 अगस्त, 1924 - 10 अगस्त, 1995) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंगकार थे। उनका जन्म जमानी, होशंगाबाद, मध्य प्रदेश में हुआ था। वे हिंदी के पहले रचनाकार हैं जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दर्जा दिलाया और उसे हल्के–फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के व्यापक प्रश्नों से जोड़ा। उनकी व्यंग्य रचनाएँ हमारे मन में गुदगुदी ही पैदा नहीं करतीं बल्कि हमें उन सामाजिक वास्तविकताओं के आमने–सामने खड़ा करती है, जिनसे किसी भी व्यक्ति का अलग रह पाना लगभग असंभव है। लगातार खोखली होती जा रही हमारी सामाजिक और राजनैतिक व्यवस्था में पिसते मध्यमवर्गीय मन की सच्चाइयों को उन्होंने बहुत ही निकटता से पकड़ा है। सामाजिक पाखंड और रूढ़िवादी जीवन–मूल्यों की खिल्ली उड़ाते हुए उन्होंने सदैव विवेक और विज्ञान–सम्मत दृष्टि को सकारात्मक रूप में प्रस्तुत किया है। उनकी भाषा–शैली में खास किस्म का अपनापा है, जिससे पाठक यह महसूस करता है कि लेखक उसके सामने ही बैठा है ।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 164
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788126728527
  • Category: Literature
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Bharat Ke Madhya Varg Ki Ajeeb Dastan by Pawan Kumar Verma
Bharat Ke Sankatgrast Vanya Prani by Gunakar Muley
Aatma Ka Tap by Syed Haider Raza
Yaadon Ke Aaine Mein by Ozair E. Rahman
Sitam Ki Intiha Kya Hai by Satyendra Kumar Teneja
Jannayak Ho Chi Minh Aur Bharat by Geetesh Sharma
Books from this publisher
Related Books
Aur Ant Mein Harishankar Parsai
PREMCHAND KE PHATE JUTE Harishankar parsai
Jane Pahachane Log Harishankar Parsai
PREMCHAND KE PHATE JUTE HARISHANKAR PARSAI
JWALA AUR JAL HARISHANKAR PARSAI
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Hari shankar Parsai Harishankar Parsai
Related Books
Bookshelves
Stay Connected