logo
Home Self Help Philosophy Hind Swaraj
product-img
Hind Swaraj
Enjoying reading this book?

Hind Swaraj

by Mahatma Gandhi
4.5
4.5 out of 5

publisher
Creators
Publisher Shiksha Bharti
Synopsis 1908 में लिखी हिन्द स्वराज पीढ़ी-दर-पीढ़ी हमारा मार्गदर्शन करती रही है। यह आज भी उतनी ही प्रासंगिक और लोकप्रिय है जितनी इसे लिखे जाने के समय थी। गाँधीजी ने इसी पुस्तक के माध्यम से पहली बार स्वराज की अवधारणा का औपचारिक प्रतिपादन और उसकी व्याख्या की थी। उनका मानना था कि स्वराज एक पवित्र साध्य है इसलिए उसे प्राप्त करने के साधन भी पवित्र होने चाहिए। 'स्वतंत्रता क्या है' और 'इसे कैसे प्राप्त किया जाए', जैसे विभिन्न प्रश्नों पर गाँधीजी के उत्तर चरित्र और चिंतन-प्रक्रिया के सम्बन्ध में अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं।कभी महत्त्व न खोने वाले विभिन्न मूल्यों की व्याख्या करती यह किताब गाँधीजी के विचारों का एक दुर्लभ दस्तावेज़ है।

Enjoying reading this book?
Binding: PaperBack
About the author मोहनदास करमचन्द गांधी भारत एवं भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। विश्व-भर में लोग उन्हें महात्मा गांधी के नाम से जानते हैं। गांधी जी ने अहिंसक सविनय अवज्ञा का अपना राजनीतिक औजार प्रवासी वकील के रूप में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय के लोगों के नागरिक अधिकारों के लिए संघर्ष हेतु प्रयुक्त किया। 1915 में भारत वापसी के बाद उन्होंने यहाँ में किसानों, कृषि मजदूरों और शहरी श्रमिकों को अत्यधिक भूमि कर और भेदभाव के विरुद्ध आवाज उठाने के लिए एकजुट किया। 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की बागडोर सँभालने के बाद उन्होंने देशभर में गरीबी से राहत दिलाने, महिलाओं के अधिकारों का विस्तार, धार्मिक एवं जातीय एकता का निर्माण, आत्म- निर्भरता के लिए अस्पृश्यता का अन्त आदि के लिए बहुत से आन्दोलन चलाए। किन्तु इन सबसे अधिक स्वराज की प्राप्ति उनका प्रमुख लक्ष्य था। गांधी जी ने ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों पर लगाए गए नमक कर के विरोध में 1930 में दांडी मार्च और इसके बाद 1942 में, ब्रिटिश भारत छोड़ो आन्दोलन से भारतीयों का नेतृत्व कर प्रसिद्धि प्राप्त की। दक्षिण अफ्रीका और भारत में विभिन्न अवसरों पर कई वर्षों तक उन्हें जेल में रहना पड़ा।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Shiksha Bharti
  • Pages: 84
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788174831125
  • Category: Philosophy
  • Related Category: Self Help & Inspiration
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Sabse Bada Teerth by Premchand
Quadi Ki Karamat by Alexandre Dumas
Chamatkari Taveez by Walter Scott
Teesmar Khan by Miguel De Cervantes
Dr. Rajendra Prasad by Vinod
C.V. Raman by Vishwamitra Sharma
Books from this publisher
Related Books
Prarthna-Pravachan : Vols. 1-2 Mahatma Gandhi
Gita-Mata Mahatma Gandhi
Gita-Mata Mahatma Gandhi
Suno Vidyarthiyo Mahatma Gandhi
SATYA KE SATH MERE PRAYOG MERI ATAMKATH Mahatma Gandhi
Prarthna-Pravachan ` Khand Do Mahatma Gandhi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected