logo
Home Literature Romance Googly
product-img product-img
Googly
Enjoying reading this book?
Recommended by 1 Readers.

Googly

by Gyanesh Sahu
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Gyanesh Sahu
Publisher Rajpal and Sons
Synopsis स्कूल के आखिरी और काॅलेज के शुरुआती वर्षों का यादगार और अलमस्त समय! जब स्कूल के अनुशासन से छूटे और जवानी की दहलीज़ पर खड़े छात्र अपनी आज़ादी और महत्वाकांक्षाओं की उड़ान को परखने लगते हैं। जीवन के कठोर यथार्थ से बेपरवाह ये समां होता है दोस्त बनाने का, सपने देखने का। भिलाई के एक स्कूल में पढ़ने वाले कुछ दोस्तों की ऐसी ही कहानी है गुगली। दोस्त जो एक दूसरे पर जान छिड़कते हैं और आजीवन दोस्ती की कसमें खाते हैं। सब क्रिकेट के दीवाने हैं और इनका कैलेंडर एक टैस्ट मैच से दूसरे टैस्ट मैच तक चलता है। दोस्ती और क्रिकेट के बीच पहला-पहला प्यार भी अंकुरित होता है। दोस्तों की प्रगाढ़ मित्रता, क्रिकेट के लिए जुनून, जीवन और कैरियर की जद्दोजहद, सच्चे प्यार को शिद्दत से पाने की प्रबल इच्छा को लेखक ने बहुत खूबसूरती से उकेरा है। स्टील सिटी भिलाई में जन्मे, पले-बढ़े, आईटी कम्पनी में कार्यरत ज्ञानेश साहू, को बचपन से ही यात्रा-डायरी लिखने का शौक था। वे कुछ-न-कुछ लिखते ही रहते हैं। गुगली उनका पहला हिन्दी उपन्यास है।

Enjoying reading this book?
Recommended by 1 Readers.
Paperback ₹235
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: English
  • Publisher: Rajpal and Sons
  • Pages: 144
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389373615
  • Category: Romance
  • Related Category: Romance
Share this book Twitter Facebook
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Sargam by Firaq Gorakhpuri
Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari - Nazir Akbarabadi by Prakash Pandit
Gumnami Se Pare by Patrick Modiano
Cheen Diary by Rituraj
Koyla Bahi Na Rakh by Rajendra Rao
Varunputri by Narendra Kohli
Books from this publisher
Related Books
Pramey Bhagwant Anmol
Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari - Nazir Akbarabadi Prakash Pandit
Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari - Akhtar Sheerani Prakash Pandit
Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari - Faiz Ahmad Faiz Prakash Pandit
Sargam Firaq Gorakhpuri
Dekh Kabira Roya Bhagwatisharan Mishra
Related Books
Bookshelves
Stay Connected