logo
Home Literature Literature Gandhi-Drishti Ke Vividh Aayam
product-img
Gandhi-Drishti Ke Vividh Aayam
Enjoying reading this book?

Gandhi-Drishti Ke Vividh Aayam

by Shambhu Joshi
4.7
4.7 out of 5

publisher
Creators
Author Shambhu Joshi
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis जब गांधी जी बर्बरीकरण की बात करते हैं तो वह केवल स्थूल हिंसा तक सीमित नहीं है। उसमें हिंसा के वे सब रूप और आयाम शामिल हैं, जिन्हें संरचनागत हिंसा, सांस्कृतिक हिंसा और पीडि़तोन्मुख अप्रत्यक्ष हिंसा कहते हैं। प्रत्यक्ष हिंसा भी इस संरचनागत हिंसा का ही प्रतिफलन होती है, जिसे सांस्कृतिक हिंसा एक वैधता प्रदान करने की कोशिश करती है। महात्मा गांधी के विचार-सूत्रों में यदि इस प्रकार की सभी समस्याओं के प्रति एक अद्भुत जागरूकता तथा एक नैतिक-तार्किक संगति दिखाई देती है तो इसका कारण शायद यही है कि उनका सारा जीवन और चिन्तन अहिंसा—प्रेम—के नियम से प्रेरित रहा है। विस्मय इस बात का होता है कि उनके नैतिक आग्रहों में कहीं भी अर्थशास्त्रीय सवालों की अनदेखी नहीं है। वह यह मानते हैं कि 'सच्चा अर्थशास्त्र कभी उच्चतम नैतिक मानकों का विरोधी नहीं होता, ठीक उसी प्रकार सच्चा नीतिशास्त्र वही माना जा सकता है, जो नीतिशास्त्र होने के साथ-साथ एक अच्छा अर्थशास्त्र भी हो...। अब तो मेजारोस, लेबो विट्ज और टैरी इगलटन जैसे नये माक्र्सवादी विचारक भी विकेन्द्रीकृत प्रौद्योगिकी और उत्पादन की बात करने लगे हैं, जिस पर न कॉरपोरेट का नियंत्रण हो, न राज्य का। यह उन उत्पादन-शक्तियों के विकल्प से ही हो सकता है, जो उत्पादन के साथ-साथ मुना$फे के वितरण की समस्या का भी समाधान अन्तर्निहित किए हैं। लेकिन विकेन्द्रीकृत तकनीक पर ही, जिसे गांधी जी 'स्वदेशी' कहते हैं, विकेन्द्रीकृत स्वामित्व का विकास हो सकता है। राष्ट्रीय अथवा बहुराष्ट्रीय, किसी भी प्रकार के पूँजीवाद और उसके अनिवार्य प्रतिफलन साम्राज्यवाद का विकल्प इसलिए 'स्वदेशी' तकनीकी और उत्पादन-व्यवस्था ही हो सकती है, जिसके अन्तर्गत मानवीय स्वातंत्र्य और व्यक्तित्व भी पोषित होता है और प्राकृतिक विनाश का खतरा भी नहीं रहता। इस पुस्तक की प्रमुख विशेषता यह है कि इसमेंं गांधी-दृष्टि के विविध आयामों को उनके साध्य सत्य तथा साधन अहिंसा अर्थात् प्रेम के बीज से पल्लवित सिद्ध करने का स्तुत्य प्रयास किया गया है।...यह पुस्तक जहाँ सामान्य पाठकों को गांधी-विचार की प्रामाणिक जानकारी दे सकेगी, वहीं अध्येताओं, छात्रों और अध्यापकों के लिए भी अतीव उपयोगी साबित होगी। —नन्दकिशोर आचार्य

Enjoying reading this book?
Binding: HardBack
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 184
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789388183802
  • Category: Literature
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Gyarahvin A ke Ladke by Gaurav Solanki
Parishishta by Giriraj Kishore
Sonpur Mela by Ravi Shankar
Lutian Ke Tile Ka Bhugol by Prabhash Joshi
Mahakavi Vanbhatt Ki Janmsthali : Arval by Pragya Narayan
Kavita Ke Teen Darvaje by Ashok Vajpeyi
Books from this publisher
Related Books
Vidrohi Mahatma Nandkishore Acharya
Mallika Samagra Mallika
Ek Gond Gaon Me Jeevan Veriar Elwin
Aanjaney Jayte Giriraj Kishore
Aanjaney Jayte Giriraj Kishor
MANJIL SE JYADA SAFAR RAMBHADUR ROY
Related Books
Bookshelves
Stay Connected