logo
Home Comics Comics Gair Sarkari Sangthan
product-img
Gair Sarkari Sangthan
Enjoying reading this book?

Gair Sarkari Sangthan

by Rajendra Chadrakant Ray
4
4 out of 5

publisher
Creators
Author Rajendra Chadrakant Ray
Publisher Radhakrishna Prakashan
Synopsis भारत सहित पूरे संसार में गैर सरकारी संगठनों का एक आन्दोलन ही इन दिनों सक्रिय है । इस माध्यम से सजग नागरिकों के द्वारा अपने समुदाय और समाज के कल्याण के लिए कार्य करने में एक इतिहास ही रच दिया गया है । पर गैर सरकारी संगठन का निर्माण कर लेना जितना सरल है, उसका निर्वाह करना उसकी तुलना में कहीं अधिक जटिल है । सामान्यतौर पर सरकारें गैर सरकारी संगठनों के साथ काम करने को उत्सुक रहती हैं, परन्तु भारत जैसे देश में नौकरशाही इनसे अप्रसन्न ही बनी रहती है । राजनैतिक प्रतिरो/ा भी कुछ कम नहीं होता । तब भी एक बेहतर सोच लेकर चलने वाले लोगों के लिए काम करने और नतीजे निकाल लाने की सम्भावना कुछ कम नहीं है । आखिर वे कौन से तत्त्व हैं, जो एक समर्पित गैर सरकारी संगठन की वास्तविक पूँजी होते हैं । ऐसे ही सवालों से जूझती है यह पुस्तक ।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹150
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Radhakrishna Prakashan
  • Pages: 175
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788126717835
  • Category: Comics
  • Related Category: Comics
Share this book
Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Film Ki Kahani Kaise Likhein by Vipul K. Rawal
Aandhi by Gulzar
Muskan Ka Madersa by Jagmohan Singh Rajpur, Sarala Rajput
Aadhunik Hindi Proyog Kosh by Badrinath Kapoor
Hindi Sahitya Ka Itihas Punarlekhan Ki Avashyakta by Pukhraj Maroo
Trishanku by Mannu Bhandari
Books from this publisher
Related Books
Ek Aur Brahmand Arun Maheshwari
Kushal Prabandhan Ke Sootra Suresh Kant
Prabandhan Ke Gurumantra Suresh Kant
Utkrishta Prabandhan Ke Roop Suresh Kant
Avgun Chitt Na Dharow Kiran Sood
Avgun Chitt Na Dharow Kiran Sood
Related Books
Bookshelves
Stay Connected