logo
Home Literature Literature Do Bailon Ki Katha/दो बैलों की कथा
product-img
Do Bailon Ki Katha/दो बैलों की कथा
Enjoying reading this book?

Do Bailon Ki Katha/दो बैलों की कथा

by प्रेमचंद
4.4
4.4 out of 5
Creators
Author प्रेमचंद
Publisher Hind Pocket Books
Synopsis इस कहानी का उपदेश है कि पशु समझदार और वफादार होते हैं। उन पर अत्याचार नहीं करना चाहिए। हीरा और मोती झूरी किसान के दो बैल हैं। एक बार झूरी इन्हें सुसराल छोड़ आता है, लेकिन वे वापस आ जाते हैं। उन्हें दोबारा फिर वहीं छोड़ा जाता है, लेकिन वे मारपीट सहकर और विपत्तियों से बचते हुए पुन: अपने मालिक के घर लौट आते हैं।

Enjoying reading this book?
Binding: Paperback
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Hind Pocket Books
  • Pages: 188
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789353495084
  • Category: Literature
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Raja Ki Anghooti by Satyajit Ray
Ek Kaali Ladkee/एक काली लड़की by तरशंकर बंद्योपाध्याय
Pita Dar Pita/पिता दर पिता by रमेश बक्षी
Happiness: The Key to Success by Sunil Upadhyaya
Karva Gujar Gaya by Neeraj
Gopniya Durlabh Mantro Ke Rahasya by Dr. Narayandutt Shrimali
Books from this publisher
Related Books
Soma/सोमा पंडित सत्यकाम विद्यालंकार
Shatranj Ke Khiladi/शतरंज के खिलाड़ी प्रेमचंद
Sankalp/संकल्प हंसराज रहबर
Samay Saakshi Hai/समय साक्षी है हिमांशु जोशी
Rukogi Nahin Radhika?/रुकोगी नहीं राधिका? उषा प्रियंवदा
Rajnaitik Hatyayen/राजनैतिक हत्याएँ हरिमोहन शर्मा
Related Books
Bookshelves
Stay Connected