logo
Home Nonfiction Biographies & Memoirs Devi Ke DPT Banane Ki Kahani
product-img
Devi Ke DPT Banane Ki Kahani
Enjoying reading this book?

Devi Ke DPT Banane Ki Kahani

by Pushpesh Pant
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Pushpesh Pant
Publisher Rajkamal Prakashan
Translator Vandana Mishra
Synopsis जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में देवी प्रसाद त्रिपाठी के रूप में छात्र संक्रियतावादी का अपना सफर शुरू करनेवाले डी.पी.टी. ने जे.एन.यू छात्रसंघ के इतिहास में सबसे लम्बी अवधि तक अध्यक्ष-पद पर बने रहने का गौरव प्राप्त किया। उन्होंने 1973 में श्रीमती इन्दिरा गांधी द्वारा थोपे गए बदनाम आपातकाल के दौरान इस विश्वविद्यालय में एक गौरवपूर्ण प्रतिरोध-आन्दोलन का नेतृत्व किया। परिसर में उनकी छवि आज भी एक नायक की छवि बनी हुई है। डीपीटी भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री राजीव गांधी के विश्वासपात्र और घनिष्ठ सहयोगी थे। मीडिया उनका उल्लेख मानव कम्प्यूटर के रूप में करता था। डीपीटी ने विदेशों में पचास से अधिक विश्वविद्यालयों में व्याख्यान दिए है और कुछ समय इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पढ़ाया भी। राज्यसभा के सदस्य रहे डीपीटी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के महासचिव और प्रमुख प्रवक्ता रहे। वह विचार न्यास के संस्थापक और विचार प्रधान पत्रिका ‘थिंक इंडिया क्वार्टरली’ के मुख्य सम्पादक भी थे।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹395
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 144
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789389577945
  • Category: Biographies & Memoirs
  • Related Category: Biographies
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Kali-Katha ` Via Bypass by Alka Saraogi
Nagarjun Rachanawali : Vols.-1-7 by Nagarjun
Aadhunik Hindi Upanyaas : (Vol. 1-2) by Bhishm Sahini, Namvar Singh
Kamyogi by Sudhir Kakkar
Shabd Parspar by Niranjan Dev Sharma
Khul Gaya Hai Dwar Ek by Ashok Vajpai
Books from this publisher
Related Books
Jeete Jee Allahabad Mamta Kaliya
Anton Chekhov and George Bernard Shaw VINOD BHATT
Nindak Niyare Rakhiye Surendra Mohan Pathak
Thackeray Bhaau Daval Kulkarni
Dharm Se Aagey : Sampurna Sansar Ke Liye Naitikta Dalai Lama
Globe Ke Bahar Ladki Pratyaksha
Related Books
Bookshelves
Stay Connected