logo
Home Literature Drama Chaturbhani
product-img
Chaturbhani
Enjoying reading this book?

Chaturbhani

by Motichandra
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Motichandra
Publisher Rajkamal prakashan, raza foundation
Synopsis 'चतुर्भाणी’ एक विलक्षण क्लैसिक है : मूल में बोलचाल की संस्कृत और लोक-जीवन की छटाओं का रोचक और नाटकीय इज़हार है और अनुवाद में बनारसी बोली का चटपटा रस-भाव। बरसों पहले ब.व. कारन्त ने उज्जैन के कालिदास समारोह के लिए 'चतुर्भाणी’ की रंगप्रस्तुति की थी। डॉ. मोतीचन्द्र द्वारा अनुवादित और डॉ. वासुदेवशरण अग्रवाल द्वारा विस्तार से समझायी गयी इस कृति को नये संस्करण में प्रस्तुत करते हुए हमें गहरा संतोष है। भारतीय परम्परा की दुव्र्याख्या के इस अभागे समय में यह कृति याद दिलाती है कि हमारी परम्परा में कैसी रसिकता और लोक-जीवन का उन्मुक्त रचाव रहा है जो कहीं से भी किसी संकीर्णता में बाँधा नहीं जा सकता। —अशोक वाजपेयी

Enjoying reading this book?
HardBack ₹1495
PaperBack ₹599
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal prakashan, raza foundation
  • Pages: 451
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789389577907
  • Category: Drama
  • Related Category: Drama & Theatre
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Vichar Ka Kapda by Anupam Mishra
Raho Tum Nakshatra Ki Tarah by Monalisa Zena
Kant Ke Darshan Ka Tatparya by Krishnachandra Bhattacharya
Bandi Jeevan Aur Anya Kavitayen by Agyey
Bin Pani Sab Soon by Anupam Mishra
Gaganvat : Sanskrit Muktakon Ka Sweekaran by Mukund Laath
Books from this publisher
Related Books
Nirkhe Vahi Nazar Gulam Mohammad Sheikh
Chirag-E-Dair Mirza Ghalib
Sur Sansar Sudhir Chandra
Sur Sansar Sudhir Chandra
Prarthna-Pravachan : Vols. 1-2 Mahatma Gandhi
Prarthna-Pravachan : Vols. 1-2 Mahatma Gandhi
Related Books
Bookshelves
Stay Connected