logo
Home Nonfiction Reference Work Chandra Gupt
product-img product-img
Chandra Gupt
Enjoying reading this book?

Chandra Gupt

by Jaishankar Prasad
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Publisher Vani Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
HardBack ₹250
Print Books
Digital Books
About the author जयशंकर प्रसाद (30 जनवरी 1890 - 15 नवम्बर 1937), हिन्दी कवि, नाटककार, कहानीकार, उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। उन्होंने हिंदी काव्य में एक तरह से छायावाद की स्थापना की जिसके द्वारा खड़ी बोली के काव्य में न केवल कमनीय माधुर्य की रससिद्ध धारा प्रवाहित हुई, बल्कि जीवन के सूक्ष्म एवं व्यापक आयामों के चित्रण की शक्ति भी संचित हुई और कामायनी तक पहुँचकर वह काव्य प्रेरक शक्तिकाव्य के रूप में भी प्रतिष्ठित हो गया। बाद के प्रगतिशील एवं नयी कविता दोनों धाराओं के प्रमुख आलोचकों ने उसकी इस शक्तिमत्ता को स्वीकृति दी। इसका एक अतिरिक्त प्रभाव यह भी हुआ कि खड़ीबोली हिन्दी काव्य की निर्विवाद सिद्ध भाषा बन गयी। आधुनिक हिन्दी साहित्य के इतिहास में इनके कृतित्व का गौरव अक्षुण्ण है। वे एक युगप्रवर्तक लेखक थे जिन्होंने एक ही साथ कविता, नाटक, कहानी और उपन्यास के क्षेत्र में हिंदी को गौरवान्वित होने योग्य कृतियाँ दीं। कवि के रूप में वे निराला, पन्त, महादेवी के साथ छायावाद के प्रमुख स्तंभ के रूप में प्रतिष्ठित हुए हैं; नाटक लेखन में भारतेंदु के बाद वे एक अलग धारा बहाने वाले युगप्रवर्तक नाटककार रहे जिनके नाटक आज भी पाठक न केवल चाव से पढ़ते हैं, बल्कि उनकी अर्थगर्भिता तथा रंगमंचीय प्रासंगिकता भी दिनानुदिन बढ़ती ही गयी है। इस दृष्टि से उनकी महत्ता पहचानने एवं स्थापित करने में वीरेन्द्र नारायण, शांता गाँधी, सत्येन्द्र तनेजा एवं अब कई दृष्टियों से सबसे बढ़कर महेश आनन्द का प्रशंसनीय ऐतिहासिक योगदान रहा है। इसके अलावा कहानी और उपन्यास के क्षेत्र में भी उन्होंने कई यादगार कृतियाँ दीं। विविध रचनाओं के माध्यम से मानवीय करुणा और भारतीय मनीषा के अनेकानेक गौरवपूर्ण पक्षों का उद्घाटन। 48 वर्षो के छोटे से जीवन में कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचनात्मक निबंध आदि विभिन्न विधाओं में रचनाएँ की। उन्हें 'कामायनी' पर मंगलाप्रसाद पारितोषिक प्राप्त हुआ था। उन्होंने जीवन में कभी साहित्य को अर्जन का माध्यम नहीं बनाया, अपितु वे साधना समझकर ही साहित्य की रचना करते रहे। कुल मिलाकर ऐसी बहुआयामी प्रतिभा का साहित्यकार हिंदी में कम ही मिलेगा जिसने साहित्य के सभी अंगों को अपनी कृतियों से न केवल समृद्ध किया हो, बल्कि उन सभी विधाओं में काफी ऊँचा स्थान भी रखता हो।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 160
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789350005118
  • Category: Reference Work
  • Related Category: Reference & Research
Share this book


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Reporter by Mahasweta Devi
Jharta Neem : Shashwat Theem by Sharad Joshi
Prabandhan Panipat Se Titenic Via Kurukshetra by Shriram Munde
Bharatiya Samaj Ka Itihasik Vishleshan by Bhagwat Sharan Upadhyaya
Brahad Hindi Patra Patrika Kosh by Surya Prasad Dixit
Sahitya Aur Sangeet 1 by Mukesh Garg
Books from this publisher
Related Books
JAISHANKAR PRASAD SAMPURNA UPANYAS JAISHANKAR PRASAD
Chandragupta Jaishankar Prasad
SKANDGUPT Jaishankar Prasad
CHANDRAGUPTA Jaishankar Prasad
DHRUVSWAMINI Jaishankar Prasad
AJATSHATRU Jaishankar Prasad
Related Books
Bookshelves
Stay Connected