logo
Home Literature Drama Bhavi Vasant Vibhrat
product-img product-imgproduct-img
Bhavi Vasant Vibhrat
Enjoying reading this book?

Bhavi Vasant Vibhrat

by Hazari Prasad Dwivedi
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Author Hazari Prasad Dwivedi
Publisher Vani Prakashan
Synopsis ‘भावी वसन्त-विभ्राट्: स्त्री स्वप्न 2160 ई’ - हज़ारीप्रसाद द्विवेदी “वसन्त-विभ्राट् की कल्पना समय से कुछ पहले की गयी है, पर अमूलक नहीं है। कथानक आज से दो सौ वर्ष बाद का है। परिस्थितियों के सूक्ष्म अध्ययन से यह स्पष्ट ही समझ में आ जायेगा कि उन दिनों भारतवर्ष में कई स्वतन्त्र शासन वाले प्रदेश हो जायेंगे। उस समय वर्तमान प्रदेशों की सीमा ज्यों की त्यों नहीं रहेगी। अनुमान है कि वर्तमान बनारस कमिश्नरी और बिहार के कुछ ज़िलों के संयोग से ‘काशी’ नामक एक स्वतन्त्र प्रदेश होगा। इसकी राजधानी काशी होगी। साम्यवाद या इसी माप के अन्य वादों का बहुल प्रचार संसार की रोटी-समस्या हल कर देगा। लोगों को इस समस्या से फ़ुरसत मिलने पर अन्य उलझनों के सुलझाने का सामूहिक उद्योग करना होगा। उसी समय ‘सेक्स’ का विवाद उग्र रूप धारण करेगा।“

Enjoying reading this book?
Paperback ₹54
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 54
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389915709
  • Category: Drama
  • Related Category: Drama & Theatre
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Vidyapati Ke Geet by Nagarjun
Sahitya Aur Sangeet 2 by Mukesh Garg
Aslaha by Giriraj Kishore
Janjateey Jeevan Mein Ram by Chif Editor : Dr. Yogendra Pratap Singh Guest
Paani Ka Dukhra by Vimal Kumar
NarNari ( Thanku Baba Lochandas ) by Nag Bodas
Books from this publisher
Related Books
Lallan Miss Rama Pandey
Kamukata Ka Utsav Jayanti Rangnathan
Najma Dhirendra Singh Jafa
Do Anday Dhirendra Singh Jafa
Pensioner Dhirendra Singh Jafa
Shivnarain Dhirendra Singh Jafa
Related Books
Bookshelves
Stay Connected