logo
Home Literature Drama Bhavi Vasant Vibhrat
product-img
Bhavi Vasant Vibhrat
Bhavi Vasant Vibhrat
by Hazari Prasad Dwivedi
out of 5
Creators
Author Hazari Prasad Dwivedi
Publisher Vani Prakashan
Synopsis ‘भावी वसन्त-विभ्राट्: स्त्री स्वप्न 2160 ई’ - हज़ारीप्रसाद द्विवेदी “वसन्त-विभ्राट् की कल्पना समय से कुछ पहले की गयी है, पर अमूलक नहीं है। कथानक आज से दो सौ वर्ष बाद का है। परिस्थितियों के सूक्ष्म अध्ययन से यह स्पष्ट ही समझ में आ जायेगा कि उन दिनों भारतवर्ष में कई स्वतन्त्र शासन वाले प्रदेश हो जायेंगे। उस समय वर्तमान प्रदेशों की सीमा ज्यों की त्यों नहीं रहेगी। अनुमान है कि वर्तमान बनारस कमिश्नरी और बिहार के कुछ ज़िलों के संयोग से ‘काशी’ नामक एक स्वतन्त्र प्रदेश होगा। इसकी राजधानी काशी होगी। साम्यवाद या इसी माप के अन्य वादों का बहुल प्रचार संसार की रोटी-समस्या हल कर देगा। लोगों को इस समस्या से फ़ुरसत मिलने पर अन्य उलझनों के सुलझाने का सामूहिक उद्योग करना होगा। उसी समय ‘सेक्स’ का विवाद उग्र रूप धारण करेगा।“

Paperback ₹54
Print Books
About the author Not Available
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 54
  • Binding: Paperback
  • ISBN: 9789389915709
  • Category: Drama
  • Related Category: Drama & Theatre
Share this book
Books from this publisher
Utho ! Himmat Karo, Age Badho by
Ramkatha:Kaljayee Chetna by Dr.K.C.Sindhu
Lambi Kavitayen : Vaicharik Sarokar by Dr.Baldev Vanshi
Sharanam by Narendra Kohli
Aakhiri Boond Ki Khushboo by Zahinda Hina
Sant Kavya Ki Samajik Prasangikata by Ravindra Kumar Singh
Books from this publisher
Related Books
Khamosh! Adalat Jari Hai Vijay Tendlukar
Jati Hi Poochho Sadhu Ki Vijay Tendlukar
Ghasiram Kotwal Vijay Tendlukar
Ghasiram Kotwal Vijay Tendlukar
Jati Hi Poochho Sadhu Ki Vijay Tendlukar
Khamosh! Adalat Jari Hai Vijay Tendlukar
feedImg Amar Chitra Katha 1 by Ed. Jainedra Kumar
Related Books
Bookshelves
Stay Connected