logo
Home Literature Novel Balchanma
product-img product-img
Balchanma
Enjoying reading this book?

Balchanma

by Nagarjun
4.5
4.5 out of 5

publisher
Creators
Author Nagarjun
Publisher Vani Prakashan
Synopsis

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹100
HardBack ₹150
Print Books
About the author नागार्जुन (30 जून 1911-5 नवंबर 1998 हिन्दी और मैथिली के अप्रतिम लेखक और कवि थे। उनका असली नाम वैद्यनाथ मिश्र था परंतु हिन्दी साहित्य में उन्होंने नागार्जुन तथा मैथिली में यात्री उपनाम से रचनाएँ कीं। इनके पिता श्री गोकुल मिश्र तरउनी गांव के एक किसान थे और खेती के अलावा पुरोहिती आदि के सिलसिले में आस-पास के इलाकों में आया-जाया करते थे। उनके साथ-साथ नागार्जुन भी बचपन से ही “यात्री” हो गए। आरंभिक शिक्षा प्राचीन पद्धति से संस्कृत में हुई किन्तु आगे स्वाध्याय पद्धति से ही शिक्षा बढ़ी। राहुल सांकृत्यायन के “संयुक्त निकाय” का अनुवाद पढ़कर वैद्यनाथ की इच्छा हुई कि यह ग्रंथ मूल पालि में पढ़ा जाए। इसके लिए वे लंका चले गए जहाँ वे स्वयं पालि पढ़ते थे और मठ के “भिक्खुओं” को संस्कृत पढ़ाते थे। यहाँ उन्होंने बौद्ध धर्म की दीक्षा ले ली। छः से अधिक उपन्यास, एक दर्जन कविता-संग्रह, दो खण्ड काव्य, दो मैथिली; (हिन्दी में भी अनूदित) कविता-संग्रह, एक मैथिली उपन्यास, एक संस्कृत काव्य "धर्मलोक शतकम" तथा संस्कृत से कुछ अनूदित कृतियों के रचयिता नागार्जुन को 1969 में उनके ऐतिहासिक मैथिली रचना पत्रहीन नग्न गाछ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया था। उन्हें साहित्य अकादमी ने १९९४ में साहित्य अकादमी फेलो के रूप में नामांकित कर सम्मानित भी किया था।
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 172
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788170551928
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Patrakarita Ki Khurdari Zameen by Rakesh Tiwari
Lambee Kahaniyan 1,2 (2 Volume Set ) by Rajendra Yadav
Khule Pairon Ki Berian by Gyan Singh Maan
Sardar Bhagat Singh Wa Unke Sathi by Ajay Kumar Ghosh
Sahityashastra Ke Pramukh Paksh by Dr. Rammurti Tripathi
Prachin Kavya by Prof.Sriram Sharma
Books from this publisher
Related Books
Jamaniya Ka Baba Nagarjun
Dukhmochan Nagarjun
Ratinath Ki Chachi Nagarjun
Paka Hai Yah Kathal Nagarjun
Nai Paudh Nagarjun
Nai Paudh Nagarjun
Related Books
Bookshelves
Stay Connected