logo
Home Mythology Other Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia
product-img
Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia
Enjoying reading this book?

Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia

by Balmeeki Prasad Singh
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Author Balmeeki Prasad Singh
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis इधर आतंकवाद और पुनरुत्थानवाद के उदय के कारण वैश्विक राजनीति में कुछ अहम परिवर्तन आए हैं। ये अभूतपूर्व चुनौतियाँ विश्व के नेताओं से एक नई, साहसी और कल्पनाशील राजनीति की माँग कर रही हैं। शान्ति की सदियों पुरानी तकनीकों से ऊपर उठने और विमर्श की हमारी भाषा की पुनर्रचना करने की जरूरत को रेखांकित करते हुए यह पुस्तक ‘बहुधा’ की अवधारणा को प्रस्तुत करती है; ‘बहुधा’- यानी एक शाश्वत सच्चाई, एक सातत्य; शान्तिपूर्ण जीवन और सौहार्द का संवाद। यह अवधारणा बहुजातीय समाजों और बहुवाद के अन्तर को बताती है, वैचारिक आदान-प्रदान की गुंजाइश देती है और सामूहिक कल्याण की समझ को प्रोत्साहित करती है। पुस्तक को पाँच भागों में विभाजित किया गया है। पहले भाग में 1989 से 2001 की अवधि में घटी घटनाओं और विभिन्न देशों, संस्कृतियों और अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति पर पड़े उनके प्रभावों पर विचार किया गया है। मसलन- बर्लिन की दीवार का गिरना, हांगकांग का चीन में जाना और सितम्बर 11 को अमेरिका में हुआ हमला। दूसरे भाग में वेदों और पुराणों के उदाहरणों और अशोक, कबीर, गुरु नानक, अकबर व महात्मा गांधी की नीतियों के विश्लेषण के द्वारा बहुवादी चुनौतियों से निबटने के भारतीय अनुभवों को परखा गया है। आगे के भागों में लेखक ने ‘बहुधा’ को सामूहिक सौहार्द की एक नीति के रूप में रेखांकित करते हुए विश्वस्तर पर इस दृष्टिकोण के अनुकरण पर विचार किया है। एक सद्भावनापूर्ण समाज की रचना के लिए लेखक शिक्षा और धर्म की भूमिका को केन्द्रीय मानते हैं और वैश्विक विवादों को हल करने के लिए संयुक्त राष्ट्रसंघ को शक्तिशाली बनाने की वकालत करते हैं। लेखक की मान्यता है कि आतंकवाद का जवाब मानवाधिकारों के सम्मान और विभिन्न संस्कृतियों और मूल्य-व्यवस्थाओं के सम्मान में छिपा है। शान्तिपूर्ण विश्व के निर्माण के लिए आवश्यक संवाद-प्रक्रिया को आरम्भ करने के लिए यह जरूरी है। कई-कई विषय-क्षेत्रों में एक साथ विचरण करनेवाली यह कृति विद्यार्थियों, विद्वानों और इतिहास, दर्शन, राजनीति तथा अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्धों के शोधार्थियों के लिए समान रूप से रुचिकर साबित होगी।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹550
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 418
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9788126716746
  • Category: Other
  • Related Category: Philosophy
Share this book
Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Sabrang Chutkule by Amod Maheshwari
Gonu Jha Ki Khaniyan by Ashok Maheshwari
Tamasha Tatha Anya Kahaniyan by Manzoor Ehtesham
Chahakata Chauraha by Varsha Das
Suno Deepashalinee by Ravindranath Thakur
Surya by Gunakar Muley
Books from this publisher
Related Books
Aalap Mein Girah Geet Chaturvedi
Nyoonatam Main Geet Chaturvedi
Hindu Hindutva Hindustan Sudhir Chandra
Thackeray Bhaau Daval Kulkarni
Goongi Rulaai Ka Chorus Ranendra
Khanzada Bhagwandas Morwal
Related Books
Bookshelves
Stay Connected