logo
Home Anthology Anthology Fiction Bachchan Rachanawali : Vols.-1-11
product-img
Bachchan Rachanawali : Vols.-1-11
Enjoying reading this book?

Bachchan Rachanawali : Vols.-1-11

by Harivansh Rai Bachchan
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis हिन्दी कविता का एक दौर वह भी था जब हिन्दीभाषी समाज को जीवन के गंभीर पक्ष में पर्याप्त आस्था थी, और कविता भी अपने पाठक-श्रोता की समझ पर भरोसा करते हुए, संवाद को अपना ध्येय मानकर आगे बढ़ रही थी। मनोरंजक कविता और गंभीर कविता का कोई विभाजन नहीं था; न मनोरंजन के नाम पर शब्दकारों-कलाकारों आदि के बीच जनसाधारण की कुरुचि और अशिक्षा का दोहन करने की वह होड़ थी जिसके आज न जाने कितने रूप हमारे सामने हैं, और न कविता में इस सबसे बचने की कोशिश में जन-संवाद से बचने की प्रवृत्ति। हरिवंश राय बच्चन उसी काव्य-युग के सितारा कवि रहे हैं। उन्होंने न सिर्फ मंच से अपने पाठकों-श्रोताओं से संवाद किया बल्कि लोकप्रियता के कीर्तिमान गढ़े। कविता की शर्तों और कवि-रूप में अपने युग-धर्म का निर्वाह भी किया और जन से भी जुड़े रहे। यह रचनावली उनके अवदान की यथासम्भव समग्र प्रस्तुति है। रचनावली के इस नए संस्करण में 1983 में प्रकाशित नौ खंड बढ़कर अब ग्यारह हो गए हैं। रचनावली के प्रकाशन के बाद एक स्वतंत्र पुस्तक के रूप में आया बच्चन जी की आत्मकथा का चौथा भाग खंड दस में और पत्रों समेत कुछ अन्य सामग्री खंड ग्यारह में ली गई है। रचनावली के इस पहले खंड में इन रचनाओं को लिया गया है: 'मधुशाला' (1935), 'मधुबाला (1936)', 'मधुकलश' (1937), 'निशा निमंत्रण' (1938), 'एकान्त संगीत' (1939), 'आकुल अन्तर' (1943), 'सतरंगिनी' (1945), 'हलाहल' (1946), 'बंगाल का काल' (1946), 'खादी के फूल' (1948) और 'सूत की माला' (1948) शीर्षक पुस्तकें यहाँ संकलित हैं। बच्चनजी की आरम्भिक रचनाओं की सूची में 'तेरा हार' 1932 में छपा भी था पर बाद में उसका समावेश बच्चनजी की 'प्रारम्भिक रचनाएँ—भाग-1' (रचनावली, खंड-3) में हो गया, जबकि 'विकल विश्व' की विज्ञप्ति मात्र प्रकाशित हुई थी; उसकी कुछ कविताएँ 'आकुल अन्तर' (रचनावली, खंड-1) में और शेष 'धार के इधर-उधर' (रचनावली, खंड-2) में सम्मिलित कर ली गई थीं। 'विकल विश्व' के नाम से कभी कोई संग्रह प्रकाशित नहीं हुआ।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹4500
Print Books
About the author जन्म: 27 नवम्बर, 1907। जन्म-स्थान: इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) सम्पूर्ण शिक्षा म्यूनिसिपल स्कूल, कायस्थ पाठशाला, गवर्नमेंट कॉलेज, इलाहाबाद, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी तथा काशी विश्वविद्यालय में। सृजनशील लेखन की शुरुआत 1929 से। प्रारम्भ में कुछ कहानियाँ भी। 1941 से 1952 तक इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में अंग्रेजी के लेक्चरर। 1952 से 1954 तक इंग्लैंड में रहकर यीट्स के काव्य पर शोधकार्य, फलस्वरूप कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पी-एच.डी. की डिग्री। लौटकर पुनः पूर्व पद पर। फिर कुछ मास तक आकाशवाणी, इलाहाबाद में हिन्दी प्रोड्यूसर। इसके बाद 16 वर्षों तक दिल्ली - 10 वर्ष विदेश मंत्रालय में हिन्दी विशेषज्ञ तथा 6 वर्ष राज्यसभा के मनोनीत सदस्य। निधन: 18 जनवरी 2003 रचनाएँ - मधुशाला, मधुबाला, मधुकलश, निशा-निमन्त्रण, एकान्त संगीत,  आकुल अन्तर, सतरंगिनी, हलाहल , बंगाल का काल, खादी के फूल, सूत की माला, मिलन यामिनी, प्रणय पत्रिका, धार के इधर-उधर, आरती और अंगारे, बुद्ध और नाचघर, त्रिभंगिमा, चार खेमे चौंसठ खूँटे, दो चट्टानें, बहुत दिन बीते, कटती प्रतिमाओं की आवाज, उभरते प्रतिमानों के रूप , जाल समेटा, अतीत की प्रतिध्वनियाँ, प्रारम्भिक रचनाएँ,  नयी से नयी पुरानी से पुरानी (काव्य-संग्रह), क्या भूलूँ क्या याद करूँ, नीड़ का निर्माण फिर, बसेरे से दूर, दशद्वार से सोपान तक (आत्मकथा-खण्ड), वास की डायरी (डायरी), कवियों में सौम्य सन्त, नए-पुराने झरोखे, टूटी-छूटी कड़ियाँ (आलोचना निबन्ध), खैयाम और शेक्सपीयर के अनुवाद, जन्मदिन की भेंट, बन्दर बाँट, नीली चिड़िया, प्रतिनिधि कवितायेँ, मेरी कविताई की आधी सदी, बच्चन रचनावली, खैयाम की मधुशाला, साठ गीत रत्न
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 5629
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9788126729951
  • Category: Anthology Fiction
  • Related Category: Anthology Non-Fiction
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Faiz by
Surkh Aur Syah by Stendhal
Mulk by Anubhav Sinha
Lavanyadevi by Kusum Khemani
Prem Aur Patthar by Varsha Das
Kahte Hain Jisko Pyar by Krishna Baldev Vaid
Books from this publisher
Related Books
Saath Geet Ratna Harivansh Rai Bachchan
Nisha Nimantran Harivansh Rai Bachchan
Bachachan Rachanawali : Vols.-1-9 Harivansh Rai Bachchan
Meri Kavitai Ki Aadhi Sadi Harivansh Rai Bachchan
Pratinidhi Kavitayen : Harivanshrai Bachhan Harivansh Rai Bachchan
Bhagwatgita Harivansh Rai Bachchan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected