logo
Home Reference Society Azadi Ke Apurva Anubhav
product-img
Azadi Ke Apurva Anubhav
Enjoying reading this book?

Azadi Ke Apurva Anubhav

by Sachchidanand Sinha
4.8
4.8 out of 5

publisher
Creators
Author Sachchidanand Sinha
Publisher Rajkamal Prakashan
Synopsis यह पुस्तक मानव स्वतंत्रता का एक अध्ययन है। इस स्वतंत्रता सम्बन्धी विचार का विकास विभिन्न मुद्दों को लेकर चल रहे संघर्षों और उनके संस्थानीकरण से हुआ है। प्रारम्भ बिन्दु तो वह विचार ही है जो यह बतलाता है कि आजादी जीवन का एक आधारभूत सिद्धान्त है, इसलिए यह मनुष्य के लिए बिलकुल नैसर्गिक चीज है, इसे दबाया नहीं जा सकता। इस पुस्तक का लक्ष्य स्वतंत्रता का समावेशी इतिहास लिखना नहीं है बल्कि इसके विकास की अत्यन्त संक्षिप्त रूपरेखा प्रस्तुत करना है। इसलिए उनमें उन कुछ लिपिबद्ध घटनाओं का वर्णन है जो इसके लक्ष्यों में से कुछेक की सिद्धि के रास्ते में निशान बनाती हैं तथा कुछ उन मूल विचारों का वर्णन है जिनके कारण मानवीय सोच इस दिशा में साकार हो सकी। और इस प्रक्रिया में तथ्यों के साथ विचार को प्रकट करनेके लिए फ्रांस की क्रान्ति जैसी इतिहास की सबसे महत्त्वपूर्ण घटनाओं में से कुछेक को केवल स्वीकृत सन्दर्भों के रूप में लिया गया है कि तारतम्य बना रहे। पुस्तक में उन घटनाओं पर भी विचार किया गया है जिन्होंने ऐतिहासिक घटनाओं के लिए तथा उनकी सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि के निमित्त आधारवस्तु तैयार की। इस अध्ययन में यूरोपीय देशों में खासकर ब्रिटेन के अनुभवों की विस्तृत चर्चा है। इसका एक कारण यह है कि यूरोप के विकासों का दस्तावेज पूरी तरह से लिपिबद्ध है। इसका एक दूसरा कारण भी है कि दुनिया के अनेक हिस्सों में मुक्ति के संघर्ष तो हुए, लेकिन आगे बढऩे की चाह रखनेवाली मुक्तिधाराओं में से ज्यादातर धाराएँ काल की रेत में खो गईं। एकमात्र धारा जो आज तक विद्यमान है तथा एक शक्तिशाली नदी का रूप धारण कर ली है, वह वही धारा है जिसका उद्भव यूरोप में हुआ था। यही स्रोत कि दूसरे लोगों ने भी यूरोपीय विचारों की रोशनी में गुलामी के खिलाफ आवाज उठाई और अपनी आजादी की फिर से खोज की। आज हम देखते हैं कि उस आजादी के संघर्ष को मानवाधिकारों के संयुक्त राष्ट्र चार्टर के द्वारा संकेतित किया गया है। यह चार्टर स्वयं घटनाओं की वक्रगति की पराकाष्ठा है तथा पूरी तरह सत्ताओं की इच्छा के विपरीत वैसा रूप धारण कर लिया है जो इसके सृजन के लिए जवाबदेह थे। निस्सन्देह, यह पुस्तक वैश्विक परिदृश्य में आजादी के संघर्ष को विभिन्न काल-खंडों में देखने-समझने की जिस वैचारिक जमीन की रचना करती है, वह अपनी प्रक्रिया में अपूर्व अनुभवों की अपूर्व कथा की तरह है।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹495
Print Books
Digital Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Rajkamal Prakashan
  • Pages: 139
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789388753302
  • Category: Society
  • Related Category: Art & Culture
Share this book Twitter Facebook
Related articles
Related articles
Related Videos


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Tipoo Ka Afsana : Himmat-E-Marda by Frank Huzur
Khattar Kaka by Harimohan Jha
Patkatha Lekhan : Ek parichay by Manohar Shyam Joshi
Pagdandiyon Ka Zamana by Harishankar Parsai
Bhram Aur Nirsan by Narendra Dabholkar
Europe Mein Darshanshastra : Bacon Se Marx Tak by Sati Nath Chakravorty
Books from this publisher
Related Books
Sanskriti-Vimarsh Sachchidanand Sinha
Jati Vyavstha Sachchidanand Sinha
Jati Vyavstha Sachchidanand Sinha
Jati Vyavstha Sachchidanand Sinha
Poonji' Ki Antim Adhyay Sachchidanand Sinha
Bhoomandalikaran Ki Chunautiyan Sachchidanand Sinha
Related Books
Bookshelves
Stay Connected