logo
Home Literature Poetry Aparichit Ujale
product-img product-imgproduct-img
Aparichit Ujale
Enjoying reading this book?

Aparichit Ujale

by Prabha Khetan
4.1
4.1 out of 5

publisher
Creators
Author Prabha Khetan
Publisher Vani Prakashan
Synopsis साहित्य के किसी भी वाद या नारेबाज़ी से मेरा सम्पर्क नहीं है, न ही मैं साहित्य के प्रति प्रतिबद्ध हूँ। कविता मेरी ज़रूरत है, एक रिलीज़, मेरे व्यक्तित्व की एक अभिव्यक्ति । इसके प्रकाशन के पीछे मेरी केवल एक यही इच्छा है कि मैं उन सबके साथ जो मेरी ही तरह साधारण हैं, कुछ अपनी बातें कर सकूँ। मैं किसी भी पीढ़ी से सम्बन्धित नहीं। एक व्यक्ति की हैसियत से, उसकी अपनी भावनात्मक ज़रूरतों के हिसाब से लिखी गयी ये कविताएँ, उन सबके लिए हैं जो एक तरह से असाहित्यिक हैं, जो साहित्य की दुनिया में भय से कदम नहीं रखते, पर जो जीवन के प्रति कवि-दृष्टि रखते हैं और कविता से कभी-कभी संवाद भी कर लेते हैं। वैसे ही साधारण और असाहित्यिक लोग मेरे साथ रहे हैं, उसी खेमे को ये कविताएँ समर्पित हैं।

Enjoying reading this book?
PaperBack ₹199
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 80
  • Binding: PaperBack
  • ISBN: 9789389563887
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Paagal Ganitagya Ki Kavitayen by Udyan Vajpayee
Shahzada Darashikoh : Dahashat Ka Dansh by Shatrughna Prasad
SWATANTRYOTTAR KAHANI KA PARIDRASHYA AUR FANISHRNATH RENU KI KAHANIYAN by Vidya Sinha
Yatharth Ki Dharti Aur Sapna by Rajendra Ravi
Sajha Sanskriti, Sampradayik Aatankvaad Aur Hindi Cinema by Javrimal Parakh
Ram Path Ke Mandir by Sitaram Gurumurty
Books from this publisher
Related Books
Satra: Shabdon Ka Masiha Prabha Khetan
Apne-Apne Chehare Prabha Khetan
Sankalon Mein Qaid Kshitij Prabha Khetan
Kirishnadharma Main Prabha Khetan
Husnabano Aur Anay Kavitayen Prabha Khetan
Talabandi Prabha Khetan
Related Books
Bookshelves
Stay Connected