logo
Home Literature Poetry Aawaz Chali Aati Hai
product-img product-img
Aawaz Chali Aati Hai
Enjoying reading this book?

Aawaz Chali Aati Hai

by Shaz Tamakanat
4.3
4.3 out of 5

publisher
Creators
Author Shaz Tamakanat
Publisher Vani Prakashan
Editor Shashi Narayan Swadheel
Synopsis ‘आवाज़ चली आती है’ दखन के सुप्रसिद्ध शायर शाज़ तमकनत का काव्य संग्रह है। इस संग्रह में उनकी प्रतिनिधि ग़ज़लों और नज़्मों का चुनाव किया गया है। आधुनिक उर्दू कविता में शाज़ तमकनत अपने समय के सुप्रसिद्ध कवियों में स्वयं को दर्ज करवाते हैं। दखन के नामी-गिरामी शायरों में शाज़ का शुमार होता है। पारम्परिक और आधुनिक कविता के बीच जिस सेतु का निर्माण शाज़ तमकनत ने किया वह स्वयं में एक युग की स्वीकृति लिये हुए है। इनकी ग़ज़लों और नज़्मों में जहाँ निजी ज़िन्दगी के दुख-दर्द दिखाई देते हैं वहीं उनका दुख सार्वजनीन आत्मचेतना के रूप में अनुभव किया जा सकता है। यहीं ग़मे जानां और ग़मे दौरा दोनों का संगम शाज़ के रचना संसार की पहचान बनकर उभरता है और 21वीं सदी में उर्दू साहित्य के जरिये शायरी के क्षेत्र में एक आवाज़ चली आती है।

Enjoying reading this book?
HardBack ₹275
PaperBack ₹125
Print Books
About the author
Specifications
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani Prakashan
  • Pages: 182
  • Binding: HardBack
  • ISBN: 9789350001769
  • Category: Poetry
  • Related Category: Literature
Share this book Twitter Facebook


Suggested Reads
Suggested Reads
Books from this publisher
Gungunate Huye by Dr. Vishambhar Nath Upadhyay
Rani Padmini Chittorh Ka Pratham Jauhar by Brajendra Kumar Singhal
Ek Ziddi Ladki by Vijay Tendulkar
Khilauna Nagar by Navarun Bhattacharya
Kelidoscope by Santosh Dikshit
Kavita Aur Samay by Arun Kamal
Books from this publisher
Related Books
Patthalgarhi Anuj Lugun
Patthalgarhi Anuj Lugun
Mujhe Dikha Ek Manushya Manglesh Dabral
Mujhe Dikha Ek Manushya Manglesh Dabral
Pannon Par Kuch Din Namwar Singh
Pannon Par Kuch Din Namwar Singh
Related Books
Bookshelves
Stay Connected