Gaon Ke Naon sasurar Mor Naon Damaad Gaon Ke Naon sasurar Mor Naon Damaad
Rated 4.1/5 based on 40 customer reviews
74 In stock
Product description: Gaon Ke Naon sasurar Mor Naon Damaad is written by Habib tanvir and published by Vani prakashan. Buy Gaon Ke Naon sasurar Mor Naon Damaad by Habib tanvir at Best and Lowest Price in India at Markmybook.com

HomeLiteratureNovel Gaon Ke Naon sasurar Mor Naon Damaad

Your Review
Gaon Ke Naon sasurar Mor Naon Damaad by Habib tanvir
  • Language: Hindi
  • Publisher: Vani prakashan
  • Pages: 56
  • Binding: Hardback (also in: Paperback)
  • Publication Date: 2004
  • ISBN: 8181432339
  • Category: Novel
  • Related Category: Modern & Contemporary
  • MBIC: MMB958119

₹100
₹74 26%OFF

Enter pincode to check delivery option
CHECK
Generally Delivered in 3-5 days.


Buy Now Add to Cart Gift This Book Also available with other Sellers
Starting from ₹90 View all Sellers
Author Synopsis
Playwright, director, poet and actor, Habib Tanvir (1923 ?2009) is the author of iconic plays Agra Bazar and Charandas Chor. A pioneer in Urdu and Hindi theatre, he is most known for his work with Chhattisgarhi tribals, at the Naya Theatre, a theatre company he founded in 1959. During his lifetime he won several national and international awards, including the Sangeet Natak Akademi Award in 1969, Padma Shri in 1983, Kalidas Samman in 1990, Sangeet Natak Akademi Fellowship in 1996, and the Padma Bhushan in 2002. His play Charandas Chor got him the prestigious Fringe Firsts Award at Edinburgh International Drama Festival in 1982.
इस नाटक में हबीब जी ने प्रेम को नए रूप में ढाल कर पेश किया है। छतीसगढ़ में शरद पुर्णिमा के दिन एक त्योहार मनाया जाता है जिसे ‘छेर-छेरा’ कहते हैं। इस त्योहार के दिन नौजवान लड़के अनाज और सब्जी लोगो से मांग कर जमा करते हैं और बाद में पूरा युवक समाज त्योहार के दिन झंगलू और मंगलू गाँव के दो लड़के शान्ति और मान्ती के साथ छेड़छाड़करते हैं। इसी बीच झंगलू को मान्ती से प्रेम हो जाता है। मान्ती का पिता इस निर्धन लड़के बजाए एक बूढ़े मालदार सरपंच से मान्ती की शादी कर देता है झंगलू अपने मित्रों के साथ लड़की की तलाश में निकल जाता है। लड़के देवार जाति के लोगो का वेष बदलकर सरपंच के गाँव पहुँचजाते हैं। उसे छेड़ते और तरह-तरह से बेवकूफ बनाते हैं। इस समय गाँव में शंकर पार्वती की पूजा हपो रही है जिसे ‘गौरी-गौरा’ कहते हैं। इस संस्कार में मान्ती भी शामिल है। झंगलू इस दौरान किसी तरकीब से अपनी प्रेमिका को भाग ले जाता है। नाटक प्रेम की जीत के गीतों पर समाप्त होता है।
Readers generally buy together
Related Books
Books from this Storefront view all