logo
Surender Mohan Pathak सुरेन्द्र मोहन पाठक का जन्म 19 फ़रवरी 1940 को खेमकरण, अमृतसर, पंजाब में हुआ था। विज्ञान में स्नातक की उपाधि लेने के पश्चात इन्होने ने भारतीय दूरभाष उद्योग में नौकरी करने लगे। पढने के शौक़ीन आप बचपन से ही थे। आपने अपनी युवावस्था तक कई राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय लेखकों को पढ़ा था। सन 1960 में, अपने कार्य-काल के दौरान ही सुरेन्द्र मोहन पाठक ने मात्र 20 वर्ष की उम्र में ही प्रसिद्द अंतराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त उपन्यासकार इयान फ्लेमिंग रचित जेम्स बांड के सीरीज और जेम्स हेडली चेज (James Hadley Chase) के उपन्यासों का अनुवाद करना प्रारंभ कर दिया। सुरेन्द्र मोहन पाठक के द्वारा अनुवादित उपन्यासों की मांग लगातार भारतीय हिंदी-भाषी बाजार में बढ़ने लगी। सन 1959 में, आपकी अपनी कृति, प्रथम कहानी “57 साल पुराना आदमी” मनोहर कहानियां नामक पत्रिका में प्रकाशित हुई। सन 1969 आपका पहला पूर्ण उपन्यास “ऑपरेशन बुडापेस्ट” आया। “ऑपरेशन बुडापेस्ट” आपके द्वारा लिखी गयी 30 वीं कृति थी। आपका पहला उपन्यास “पुराने गुनाह नए गुनाहगार”, सन 1963 में “नीलम जासूस” नामक पत्रिका में छपा था। सन 1963 से सन 1969 तक विभिन्न पत्रिकाओं में आपके उपन्यास छपते रहे। सुरेन्द्र मोहन पाठक का सबसे प्रसिद्द उपन्यास “असफल अभियान” और “खाली वार” था जिसने पाठक जी को प्रसिद्धि के सबसे ऊँचे शिखर पर पहुंचा दिया। इसके पश्चात आपने अभी तक पीछे मुड़ कर नहीं देखा है। "पैंसठ लाख की डकैती" नामक उपन्यास का अंग्रेजी में अनुवाद भी प्रकाशित हुआ तथा यह खबर टाईम मैगज़ीनमें भी प्रकाशित हुई थी। यह खबर भी आई थी कि इस उपन्यास की लगभग ढाई करोड़ प्रतियाँ बिकी थीं। लगभग 300 उपन्यास लिखने वाले सुरेंद्र मोहन पाठक ने पल्प फिक्शन को एक नया आयाम देने का काम किया है। इंडियन टेलीफोन इंडस्ट्रीज़ की नौकरी करते हुए हिंदी पल्प फिक्शन की एक मजबूत धुरी बन जाना एक असाधारण बात थी। ऐसी सफलता रातोरात नहीं आती। इन्हें भी असफलताओं ने चुनौती दी लेकिन निरंतर संघर्ष करते हुए ये लोकप्रिय साहित्य के सिरमौर बने। न केवल अपने लिए एक बड़ा पाठक वर्ग तैयार किया, बल्कि हिंदी लोकवृत्त में पढ़ने की संस्कृति के बढ़ावे पर बात करते रहे।

image
6 Crore Ka Murda by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Crystal Lodge by Surender Mohan Pathak ₹140
image
Daman Chakra by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Diamonds Are for All by Surender Mohan Pathak ₹299
image
Framed by Surender Mohan Pathak ₹299
image
Haar Jeet by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Hazaar Haath by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Heera Pheri by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Jauhar Jwala by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Karmyoddha by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Mujhse Bura Kaun by Surender Mohan Pathak ₹140
image
Mujhse Bura Koi Nahi by Surender Mohan Pathak ₹140
image
Paisath Lakh Ki Dakaiti by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Palatwaar by Surender Mohan Pathak ₹150
image
The Colaba Conspiracy by Surender Mohan Pathak ₹299
image
Vimal Series Kaise Bani by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Zameer Ka Qaidi by Surender Mohan Pathak ₹150
image
CONMAN - ENGLISH by Surender Mohan Pathak ₹350
image
Colaba Conspiracy by Surender Mohan Pathak ₹135
image
Goa galata by Surender Mohan Pathak ₹150
image
Jo Lade Deen Ke Het: Vimal Ka Visphotak Sansar by Surender Mohan Pathak ₹135
image
NA BAIRI NA KOI BEGANA - HINDI (PATHAKNAMA VOL 1) by Surender Mohan Pathak ₹299
image
SURENDER MOHAN PATHAK THRILLER BOX SET by Surender Mohan Pathak ₹999
image
FIFTY FIFTY - HINDI by Surender Mohan Pathak ₹165
image
VISHVAAS KI HATYA - HINDI by Surender Mohan Pathak ₹165
image
KAAGAZ KI NAAV - HINDI by Surender Mohan Pathak ₹165
image
KAANPTA SHAHAR - HINDI by Surender Mohan Pathak ₹165
image
DIAL 100 - HINDI by Surender Mohan Pathak ₹165
image
CONMAN - HINDI by Surender Mohan Pathak ₹175
image
Vimal Series Box Set by Surender Mohan Pathak ₹799
image
Paisath Lakh ki Dacaiti by Surender Mohan Pathak ₹250
image
Qahar by Surender Mohan Pathak ₹175
image
Jaa Ke Bairi Sanmukh Jeevay by Surender Mohan Pathak ₹175
image
Hum Nahi Change,Bura Na koy by Surender Mohan Pathak ₹299
image
Kaala Naag by Surender Mohan Pathak ₹175
Bookshelves