logo
Jaishankar Prasad जयशंकर प्रसाद (30 जनवरी 1890 - 15 नवम्बर 1937), हिन्दी कवि, नाटककार, कहानीकार, उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। उन्होंने हिंदी काव्य में एक तरह से छायावाद की स्थापना की जिसके द्वारा खड़ी बोली के काव्य में न केवल कमनीय माधुर्य की रससिद्ध धारा प्रवाहित हुई, बल्कि जीवन के सूक्ष्म एवं व्यापक आयामों के चित्रण की शक्ति भी संचित हुई और कामायनी तक पहुँचकर वह काव्य प्रेरक शक्तिकाव्य के रूप में भी प्रतिष्ठित हो गया। बाद के प्रगतिशील एवं नयी कविता दोनों धाराओं के प्रमुख आलोचकों ने उसकी इस शक्तिमत्ता को स्वीकृति दी। इसका एक अतिरिक्त प्रभाव यह भी हुआ कि खड़ीबोली हिन्दी काव्य की निर्विवाद सिद्ध भाषा बन गयी। आधुनिक हिन्दी साहित्य के इतिहास में इनके कृतित्व का गौरव अक्षुण्ण है। वे एक युगप्रवर्तक लेखक थे जिन्होंने एक ही साथ कविता, नाटक, कहानी और उपन्यास के क्षेत्र में हिंदी को गौरवान्वित होने योग्य कृतियाँ दीं। कवि के रूप में वे निराला, पन्त, महादेवी के साथ छायावाद के प्रमुख स्तंभ के रूप में प्रतिष्ठित हुए हैं; नाटक लेखन में भारतेंदु के बाद वे एक अलग धारा बहाने वाले युगप्रवर्तक नाटककार रहे जिनके नाटक आज भी पाठक न केवल चाव से पढ़ते हैं, बल्कि उनकी अर्थगर्भिता तथा रंगमंचीय प्रासंगिकता भी दिनानुदिन बढ़ती ही गयी है। इस दृष्टि से उनकी महत्ता पहचानने एवं स्थापित करने में वीरेन्द्र नारायण, शांता गाँधी, सत्येन्द्र तनेजा एवं अब कई दृष्टियों से सबसे बढ़कर महेश आनन्द का प्रशंसनीय ऐतिहासिक योगदान रहा है। इसके अलावा कहानी और उपन्यास के क्षेत्र में भी उन्होंने कई यादगार कृतियाँ दीं। विविध रचनाओं के माध्यम से मानवीय करुणा और भारतीय मनीषा के अनेकानेक गौरवपूर्ण पक्षों का उद्घाटन। 48 वर्षो के छोटे से जीवन में कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचनात्मक निबंध आदि विभिन्न विधाओं में रचनाएँ की। उन्हें 'कामायनी' पर मंगलाप्रसाद पारितोषिक प्राप्त हुआ था। उन्होंने जीवन में कभी साहित्य को अर्जन का माध्यम नहीं बनाया, अपितु वे साधना समझकर ही साहित्य की रचना करते रहे। कुल मिलाकर ऐसी बहुआयामी प्रतिभा का साहित्यकार हिंदी में कम ही मिलेगा जिसने साहित्य के सभी अंगों को अपनी कृतियों से न केवल समृद्ध किया हो, बल्कि उन सभी विधाओं में काफी ऊँचा स्थान भी रखता हो।

image
Ajatshatru by Jaishankar Prasad ₹200
image
Jharna by Jaishankar Prasad ₹200
image
Chandra Gupt by Jaishankar Prasad ₹250
image
Dhruvswamini by Jaishankar Prasad ₹150
image
Titli by Jaishankar Prasad ₹95
image
Titli by Jaishankar Prasad ₹350
image
Jharna by Jaishankar Prasad ₹50
image
Skandgupt Vikramaditya by Jaishankar Prasad ₹45
image
Dhruvswamini by Jaishankar Prasad ₹50
image
Ajatshatru by Jaishankar Prasad ₹50
image
Titli by Jaishankar Prasad ₹165
image
Kankal by Jaishankar Prasad ₹175
image
Jaishankar Prasad Ki Shrestha Kahaniyaan by Jaishankar Prasad ₹240
image
Jaishankar Prasad Ki Shrestha Kahaniyaan by Jaishankar Prasad ₹350
image
Kamayani by Jaishankar Prasad ₹175
image
Chandragupt by Jaishankar Prasad ₹99
image
Kamayani by Jaishankar Prasad ₹250
image
Kamayani by Jaishankar Prasad ₹60
image
Titli by Jaishankar Prasad ₹100
image
Skandgupta by Jaishankar Prasad ₹50
image
Pratinidhi Kavitayen : Jaishankar Prasad by Jaishankar Prasad ₹75
image
Dhruvswamini by Jaishankar Prasad ₹30
image
Pratinidhi Kahaniyan : Jaishankar Prasad by Jaishankar Prasad ₹75
image
Pratinidhi Kahaniyan : Jaishankar Prasad by Jaishankar Prasad ₹195
image
Kankal by Jaishankar Prasad ₹75
image
Prasad Ke Sampurna Natak Avam Ekanki by Jaishankar Prasad ₹350
image
Prasad Ke Sampurna Upanyas by Jaishankar Prasad ₹650
image
Mamta by Jaishankar Prasad ₹30
image
Kankal by Jaishankar Prasad ₹350
image
Aakash Deep by Jaishankar Prasad ₹35
image
Ajatshatru by Jaishankar Prasad ₹100
image
Chandragupt by Jaishankar Prasad ₹150
image
Dhruvswamini by Jaishankar Prasad ₹160
image
Irawati by Jaishankar Prasad ₹55
image
Kamayani by Jaishankar Prasad ₹50
image
Kankal by Jaishankar Prasad ₹75
image
Titli by Jaishankar Prasad ₹50
image
Jaishankar Prasad Ki Lokpriya Kahaniyan by Jaishankar Prasad ₹350
image
Jaishankar Prasad Ki Lokpriya Kahaniyan by Jaishankar Prasad ₹150
image
Kankal by Jaishankar Prasad ₹350
image
KAMYANI (HINDI) by JAISHANKAR PRASAD ₹95
image
Jaishankar Prasad Ki Yaadgari Kahaniya by Jaishankar Prasad ₹150
image
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Jaishankar Prasad by Jaishankar Prasad ₹180
image
Dus Pratinidhi Kahaniyan : Jaishankar Prasad by Jaishankar Prasad ₹100
image
JAISHANKAR PRASAD KI ANMOL KAHANIYAN by Jaishankar Prasad ₹160
image
JAISHANKAR PRASAD KI ANMOL KAHANIYAN by Jaishankar Prasad ₹350
image
ANSU by Jaishankar Prasad ₹24
image
AJATSHATRU by Jaishankar Prasad ₹800
image
DHRUVSWAMINI by Jaishankar Prasad ₹35
image
CHANDRAGUPTA by Jaishankar Prasad ₹40
image
SKANDGUPT by Jaishankar Prasad ₹180
image
Chandragupta by Jaishankar Prasad ₹50
image
JAISHANKAR PRASAD SAMPURNA UPANYAS by JAISHANKAR PRASAD ₹195
image
KANKAAL by JAISHANKAR PRASAD ₹110
Bookshelves