logo
Bhawani prasad Mishra बीसवीं सदी की हिन्दी कविता में अपने अलग काव्य-मुहावरे और भाषा-दृष्टि के साथ-साथ स्वदेशी चेतना की तेजस्विता और कविता की प्रतिरोधक आवाज की पहचान बने कविश्री भवानी प्रसाद मिश्र का जन्म 29 मार्च, 1913 को जिला होशंगाबाद के नर्मदा-तट के एक गाँव टिगरिया में हुआ। 1930 में उन्होंने लिखा—'जिस तरह हम बोलते हैं उस तरह तू लिख।’ जीवन की शुरुआत मध्य प्रदेश के ही बैतूल जिले में एक पाठशाला खोलकर किन्तु सन् बयालीस के भारत छोड़ो आन्दोलन में लगभग तीन साल का कैदी जीवन बिताने के बाद गांधी और उनके सहयोगियों के साथ रहे। कुछेक दिनों तक 'कल्पना’ (हैदराबाद) में। फिल्मों और आकाशवाणी में काम। इसके बाद सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय के हिन्दी खंड के सम्पादक। बाद में गांधी मार्ग जैसी विशिष्ट पत्रिका के सम्पादक के रूप में साहित्यिक पत्रकारिता की एक रचनात्मक धारा का प्रवर्तन करते रहे। 20 फरवरी, 1985 को गृहनगर नरसिंहपुर में हृदयाघात से आकस्मिक मृत्यु। भवानी प्रसाद मिश्र रचनावली के कुल आठ खंडों के अलावा कवि के अन्य चर्चित कविता-संग्रह हैं—गीत फरोश, चकित है दुख, गान्धी पंचशती, बुनी हुई रस्सी, खुशबू के शिलालेख, त्रिकाल सन्ध्या, व्यक्तिगत, परिवर्तन जिए, तुम आते हो, इदम् न मम्, शरीर कविता : फसलें और फूल, मानसरोवर दिन, सम्प्रति, अँधेरी कविताएँ, तूस की आग, कालजयी, अनाम और नीली रेखा तक। बाल कविताएँ—तुकों के खेल; संस्मरण—जिन्होंने मुझे रचा; निबन्ध संग्रह—कुछ नीति कुछ राजनीति।

image
Ye Kohre Mere Hain by Bhawani prasad Mishra ₹95
image
Pratinidhi Kavitayen : Bhawani Prasad Mishra by Bhawani prasad Mishra ₹75
image
Mere Saakshatkaar : Bhawani Prasad Mishra by Bhawani prasad Mishra ₹280
image
Buni Hui Rassi by Bhawani prasad Mishra ₹150
image
Trikal sandhya by Bhawani prasad Mishra ₹140
image
Parivartan jiye by Bhawani prasad Mishra ₹120
Bookshelves